news-details

जन सहयोग से बदली सरकारी स्कूल की तस्वीर, दे रहा निजी स्कूलों को टक्कर.

शिक्षकों के प्रयासों और जन सहयोग से शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला अरेकेल की तस्वीर बदली है. जिससे वहां सरकारी शिक्षा एकमात्र विकल्प के रूप में स्थापित होकर अरेकेल का मिडिल स्कूल निजी स्कूलों को टक्कर दे रहा है. सभी कक्षाओं एवं शालाओं के बाहरी दीवारों में सामान्य ज्ञान एवं विषय आधारित चित्र एवं चार्ट बने हुए हैं. मिडिल स्कूल अरेकेल में किताबी ज्ञान के साथ-साथ कई ऐसे कला बच्चे सीख रहे हैं,जिनसे बच्चों का मानसिक एवं सर्वांगीण विकास हो रहा है.

शिक्षक प्रेमचंद साव के प्रयास से निजी विद्यालयों जैसे टाई,बेल्ट,जूता-मोजा, परिचय पत्र पहनकर सभी छात्र-छात्राएं शाला आते हैं. इसके साथ ही साथ स्कूल का अलग से प्रतीक चिह्न एवं प्रतीक वाक्य बनाया गया है. शिक्षक हीराधर साव द्वारा ज्वायफुल शनिवार के तहत् संगीतमय पीटी परेड,योगा, खेल,गणित विषय को विभिन्न टी एल एम एवं आधुनिक विधियों द्वारा शैक्षिक गुणवत्ता बढ़ाये जाने का प्रयास किया जा रहा है.

शाला में गुणवत्तापूर्ण अध्यापन होने कारण विकासखंड सरायपाली,कसडोल,पिथौरा सहित बसना के अन्य स्कूलों से छात्र छात्राएं आकर छात्रावास में रहकर अध्ययन कर रहे हैं. सत्र 2018-19 के आधार पर इस वर्ष मिडिल स्कूल अरेकेल मे दर्ज संख्या 55 रहते, लेकिन स्कूल में शिक्षकों द्वारा गुणवत्तापूर्ण अध्यापन,नवाचार अपनाने एवं विभिन्न गतिविधियों द्वारा अध्यापन कराने से कुल दर्ज संख्या 84 हो गए हैं.


4-5 वर्ष पहले विद्यालय परिसर में एक भी वृक्ष नहीं था,लेकिन शिक्षक हीराधर साव और प्रेमचंद साव के सामूहिक प्रयास से शाला परिसर का वातावरण पूर्णतः हरा भरा है और पर्यावरण संरक्षण के प्रति बच्चों एवं ग्राम के निवासियों को जन जागरूकता रैली व कार्यक्रम के माध्यम से जागरूक करने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है.

दोनों शिक्षकों के नेतृत्व में सभी बच्चों का सर्वांगीण विकास हो रहा है और निजी स्कूलों जैसी सुविधाएं स्वच्छ एवं गुणवत्ता पूर्ण गणवेश,जूते-मौजे,बेल्ट,परिचय पत्र की सुविधाएं से लेकर खेल हेतु क्रिकेट, फुटबॉल, बैडमिंटन, कैरम, लूडो, चेस, रिंग, बास्केटबॉल, रस्सी कूद हेतु सामग्री आदि शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला अरेकेल में है.

इसके आलावा आदित्य देवांगन की सहयोग से एलईडी टीवी, सनेस भोई की सहयोग से लेक्चर बाक्स एवं सरपंच शिवप्रसाद डड़सेना के सहयोग से बैंड,ड्रम, झांझ अन्य वाद्य यंत्र प्रदत्त,फर्नीचर की सुविधा, एलईडी द्वारा गुणवत्तापूर्ण अध्यापन, साफ स्वच्छ प्रांगण,खेल हेतु क्रिकेट, फुटबॉल,बैडमिंटन,कैरम,लूडो, चेस,रिंग,बास्केटबॉल,रस्सी कूद हेतु सामग्री आदि शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला अरेकेल में है।इस कारण से बच्चों के सर्वांगीण विकास करने में काफी सहायता मिल रहा है।

शालेय कार्यो की प्रशंसा डाइट व्याख्याता संतोष साहू, विकास खंड शिक्षा अधिकारी जे.आर.डहरिया, विकास खंड स्रोत समन्वयक ललित देवता,सहायक विकास खंड शिक्षा अधिकारी व्ही.के.शुक्ला,लोकेश्वर कंवर,बद्री विशाल जोल्हे सहित अन्य अधिकारियों एवं शिक्षकों द्वारा प्रशंसा किया गया है.