news-details

एसपी ने बच्चों से कहा- "रुको मत, झुको मत, थको मत तुम, आज पतझड़ है तो, कल बसंत

हमर पुलिस हमर संग बैनर तले महासमुन्द पुलिस के द्वारा बालिका सरंक्षण विषय पर एक दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन दिनांक 20 जुलाई 2019 को यूनिसेफ छत्तीसगढ़ के सहयोग से सरायपाली मंडी प्रांगण में किया गया। कार्यक्रम के प्रारंभ में बालिकाओ के द्वारा स्वागत नृत्य प्रस्तुत कर अतिथियों का अभिनंदन किया गया। सराईपाली अंचल के विभिन्न शिक्षण संस्थाओं के शामिल लगभग हजारों बालिकाओं को सेल्फ डिफेंस, पॉक्सो एक्ट, सायबर अपराध जैसे विषयों पर जानकारियां प्रदान कर उन्हें जागरूक करने का प्रयास किया गया। कार्यक्रम के दौरान अंचल के मेधावी छात्राओ को मैडल व शील्ड प्रदान कर उन्हें सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम के विशेष अतिथि श्री देवेंद्र बहादुर सिंह विधायक बसना, श्री प्रशांत दास, चीफ फील्ड ऑफिसर यूनिसेफ छत्तीसगढ़, मुख्य अतिथि श्री संतोष कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक महासमुन्द, श्री वेदव्रत सिरमौर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महासमुन्द, श्री राजीव शर्मा अनुविभागीय अधिकारी पुलिस सराईपाली, सुश्री लितेश सिंह अनुविभागीय अधिकारी पुलिस बागबाहरा उपस्थित थे।

श्री देवेंद्र बहादुर सिंह विधायक बसना ने अपने उदबोधन में उपस्थित बालिकाओ को निरंतर मेहनत करने और लगन से पढ़ाई कर क्षेत्र व जिले का नाम रौशन करने प्रेरित किये साथ ही महासमुन्द पुलिस विभाग के द्वारा चलाये जा रहे जागरूकता कार्यक्रमों की सराहना की।         

विशिष्ठ अतिथि श्री प्रशांत दास चीफ फील्ड ऑफिसर यूनिसेफ छत्तीसगढ़ ने अपने उदबोधन में कहा कि विगत वर्षों से महासमुन्द पुलिस विभाग द्वारा बाल सरंक्षण की दिशा में सराहनीय कार्य की जा रही है और महासमुन्द को बाल मित्र जिला के रूप में विकसित किया गया है। जो पूरे राज्य में अपनी तरह का अनूठा प्रयोग है। और अब इस मॉडल को राज्य के विभिन्न 100 थानों को चयनित कर लागू करने प्रयास की जा रही है। श्री दास ने उपस्थित बालिकाओ के मनोबल को बढ़ाने और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

श्री संतोष कुमार सिंह पुलिस अधीक्षक महासमुन्द ने अपने उदबोधन में बच्चों से कहा कि महासमुन्द पुलिस विभाग के द्वारा बाल हितैषी की दिशा में लगातार प्रयास की जा रही है। हमर पुलिस हमर संग बैनर के माध्यम से लगभग चालीस हजार से अधिक बालिकाओ को सेल्फ डिफेंस में जागरूक किया गया है। जिले के विभिन शालाओ में जाकर बच्चों को साइबर अपराधों, यातायात, ठगी, जिम्मेदार नागरिक के कर्तव्य जैसे विषयों पर जागरूक किया जा रहा। अन्य राज्यो से भी विभिन क्षेत्रो के विशेषज्ञों को आमंत्रित कर बच्चो, पालको व शिक्षकों के लिए विभिन्न कार्यशालाएं आयोजित किये गए है। चाइल्ड फ्रेंडली पोलिसिंग के तहत बच्चो के सर्वोत्तम हितों की सुरक्षा के लिए कार्य किये जा रहे है। गुड टच बैड टच, यातायात और इंटरनेट जनित आधुनिक अपराधों के संबंद्ध में विस्तृत जानकारी देते हुए बच्चों को सतर्क, सावधान व सुरक्षित रहने बताया गया।

कार्यक्रम के समापन अवसर पर महासमुन्द पुलिस विभाग द्वारा वर्ष 2018-19 में चाइल्ड फ्रेंडली डिस्ट्रिक्ट के तहत किए गए कार्यो की डॉक्यूमेंट्री संकलित कर "चाइल्ड फ्रेंडली पोलिसिंग पुस्तिका- महासमुन्द: टू वर्ड्स चाइल्ड फ्रेंडली डिस्ट्रिक्ट" तैयार किया गया है, जिसे अतिथियों के द्वारा विमोचन किया गया। उक्त कार्यक्रम में अन्य अतिथियो के रूप में श्री संपत अग्रवाल, श्री विद्याभूषण सतपथी, तहसीलदार श्रीमती ललिता भगत, नायब तहसीलदार श्री राममूर्ति दीवान भी मंचस्थ थे। कार्यशाला के अंत मे बाल मित्रो व पुलिस अधिकारी कर्मचारियों को भी प्रतीक चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम को सफल बनाने में थाना प्रभारी सराईपाली निरीक्षक प्रदीप मिंज व अन्य पुलिस अधिकारी कर्मचारीगण, महिला आरक्षक अन्नू भोई, बालमित्र रोशना डेविड, मंच संचालक बालमित्र बागबाहरा रूपेश तिवारी, विभिन्न शिक्षण संस्थानों के प्राचार्य गण, शिक्षक गण एवं छात्राओं का उल्लेखनीय सहयोग रहा है।