news-details

रिटायर्ड फौजी ने अपने जैसे 'सैनिक' तैयार करने दिया शारीरिक प्रशिक्षण, उत्कृष्ट 30 प्रतिभागियों को सील्ड और नगद पुरस्कार से किया सम्मानित.

समारोह में एसडीओपी राजीव शर्मा व टीआई वीणा यादव हुए शामिल.

रिटायर्ड सैनिक लोकनाथ डड़सेना, सीआरपीएफ जवान किशन साव एवं हमर पुलिस हमर संग के मास्टर ट्रेनर मनोज डड़सेना ने दी विशेष प्रशिक्षण.

फौजी की सेवा निस्वार्थ कर्म के द्वारा शारीरिक दक्षता प्रदर्शन प्रतियोगिता समारोह का आयोजन रविवार को बसना नगर के हाई स्कूल मैदान में आयोजित किया गया। जिसमें बसना सरायपाली, पिथौरा, बागबाहरा, महासमुंद क्षेत्र के अलावा बलौदाबाजार एवं रायपुर जिले समेत अनेक ब्लॉक के नवयुवक शारीरिक प्रशिक्षण में भाग लिया।

कार्यक्रम की शरुवात भारत माता के छायाचित्र पर पूजा-अर्चना कर भारत के राष्ट्रीय गीत राष्ट्रगान के साथ प्रतियोगिता का शुभारंभ किया गया।

शारीरिक दक्षता प्रदर्शन प्रतियोगिता में सर्वप्रथम सोलह सौ मीटर दौड़ का आयोजन किया गया जिसमें लगभग 78 प्रतिभागी शामिल हुए। इस दौरान सरायपाली एसडीओपी राजीव शर्मा कार्यक्रम स्थल पहुंचे। इस दौरान पत्रकार संघ के जिला उपाध्यक्ष प्रकाश सिन्हा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से सौरभ अग्रवाल, सुरेश डड़सेना, राकेश डड़सेना ने प्रतियोगिता के बारे में विस्तार से जानकारी दी।


नवयुवको को शारीरिक प्रशिक्षण मिलते देख श्री शर्मा का मन गदगद हो गया। उन्होंने ने कहा जिले के बसना क्षेत्र में भूतपूर्व सैनिक लोकनाथ डड़सेना द्वारा इतनी अच्छी फिजिकल ट्रेनिंग देकर नवयुवकों को आगे बढ़ाने का कार्य कर रहे वह सराहनीय है।   श्री शर्मा ने प्रतिभागियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि वे सभी 78 प्रतिभागियों में लोकनाथ जैसे देश का सच्चा फौजी देखना चाहते है। राष्ट्र सेवा के लिए सैनिक बनना जरूरी नही बल्कि राष्ट्र के लिए सैनिक तैयार करना व आगे बढ़ाने में सहयोग करना भी देश के सैनिक कहलाते है। मैं लोकनाथ व उनकी टीम को साधुवाद देता हूं और इस तरह के प्रतियोगिता का आयोजन जिले व राज्य स्तर में करने को कहा गया।

कार्यक्रम के दौरान पत्रकार प्रकाश सिन्हा ने सभी नवयुवकों को प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए बधाई दी और खूब मेहनत करने और लक्ष्य के प्रति आगे बढ़ने हेतु प्रोत्साहित किया। श्री सिन्हा ने बताया कि बसना नगर में यह पहला प्रतियोगिता का आयोजन हुआ है जिसमे एक रिटायर्ड सैनिक अपने जैसे 'सैनिक' तैयार करने में तन, मन और धन से लगे हुए है। यह बसना नही पूरे छत्तीसगढ़ के लिए गौरव का विषय है। आज मुझे भी सैनिक धर्म का पालन करने का अवसर मिला जिससे मैं अभिभूत हूँ।


समापन कार्यक्रम में पहुंचे बसना के सक्रिय थाना प्रभारी सुश्री वीणा यादव एवं विकासखण्ड चिकित्सा अधिकारी जेपी प्रधान ने भी उक्त कार्यक्रम की प्रशंसा की। वीणा ने कहा कि जब वे पुलिस बनना चाहती थी तब किसी प्रकार की ट्रेनिंग नही मिली। बसना के युवाओं के लिए सुनहरा अवसर है। रिटायर्ड फौजी लोकनाथ डड़सेना द्वारा निःशुल्क शारीरिक प्रशिक्षण देकर अपने जैसे फौजी बनाने में लगे है। आर्मी अथवा पुलिस के लिये नवयुवकों को फिजिकल रूप से तैयार करना बहुत बड़ी बात है।


उक्त शारीरिक दक्षता प्रदर्शन प्रतियोगिता में पहला स्थान त्रिलोचन भोई, दूसरा लोकेश कुमार, तीसरा प्रकाश मिश्रा, विवेक प्रधान एवं सांत्वना पुरस्कार दशरथ भोई, द्वारिका, कामता प्रसाद, जितेन्द्र प्रधान, कमल साव, हेमसागर साव, ओमप्रकाश, कामेश समेत अन्य 30 उत्कृष्ट प्रतिभागियों को प्रस्सति पत्र के साथ सील्ड व नगद पुरस्कार से सम्मानित किया गया।


इन युवाओं का भी हुआ सम्मान

राष्ट्र के प्रति देश प्रेम से ओतप्रोत होकर नवयुवकों में राष्ट्रीय प्रेम और सैनिक की भावना जागृत करने में सहरानीय योगदान के लिए सीआरपीएफ के जवान किशन साव, हमर पुलिस हमर संग के मास्टर ट्रेनर मनोज डड़सेना, शीत कुमार गुप्ता अधिवक्ता, प्रकाश सिन्हा पत्रकार, डॉ ओमेश डड़सेना, नरेश डड़सेना, किशोर नायक, सुरेश कश्यप, प्रदीप दास, नीरज अग्रवाल, रामकुमार सिन्हा, सोनू अग्रवाल, मनोज साहू, संदीप साहू, खुमेश डड़सेना, लालता प्रसाद आदि को प्रस्सति पत्र देकर सम्मानित किया गया।


रिटायर फौजी के उद्देश्य

भूतपूर्व सैनिक लोकनाथ डड़सेना ने बताया कि वे लगभग 1 वर्षो से बसना अंचल के युवाओ को निःशुल्क शारीरिक प्रशिक्षण दे रहे है। प्रशिक्षण प्राप्त युवाओ के बीच प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें अनेक जिलों के युवा शामिल हुए। आयोजित प्रतियोगिता में 1600 मीटर दौड़, बाधा दौड़, पुशअप, मेढक चाल, क्रॉलिंग, हाथ पीछे रख कर चलना, 10 बार लेट के हाथों के बल जम्प करना, बीम खींचना, सिटअप, गोला फेक, लंबी कूद समेत लगातार बाधा दौड़ करवाया गया। सभी मे कुल 50 अंक निर्धारित किया गया। उक्त कार्यक्रम का उद्देश्य नवयुवकों में देशप्रेम की भावना जागृत करना एवं प्रतियोगिता में शामिल युवकों को आर्मी, बीएसएफ, सीआरपीएफ, पुलिस जैसे अनेक बेल्ट फोर्स की तैयारी एवं निःशुल्क शारीरिक प्रशिक्षण दिए जाने की बात भूतपूर्व सैनिक लोकनाथ ने कही।