news-details

रोड मरम्मत कार्य का निरीक्षण करने पहुँची ललिता भगत, जर्जर बसना से ओड़िसा पहुँच मार्ग के दोहरीकरण का इंतज़ार....

बसना से पदमपुर मार्ग का दोहरीकरण के लिए क्षेत्र के लोग बीते कई अरसे से मांग कर रहे है. प्रदेश में भाजपा कार्यकाल ख़त्म होने के बाद इस सड़क की दुर्दशा ठीक होने के लिए लोगो ने अब भूपेश सरकार से उम्मीद लगा ली है. वर्षों से बने इस एकल मार्ग पर अब भारी वाहनों के चलते ऐसा दबाव बन जाता है कि लोगों का आवागमन करना मौत के मुहं में जाने जैसा हो गया है. लेकिन एक मात्र मार्ग होने की वजह से यहाँ आवागमन करना लोगों के लिए मज़बूरी सा हो गया है.  

इस सड़क पर लोग केवल 10 किलोमीटर के सफर के लिए 45 मिनट से भी अधिक समय लगा देते है, जबकि इस सड़क पर बसना से 10 किलोमीटर की दुरी पर क्षेत्र का पर्यटन स्थल कहे जाने वाला गढ़फुलझर है. वर्तमान में इस सड़क से गुजरने वाले वाहनों में बड़ी-बड़ी ट्रकों से लेकर पैदल चलने वाले छात्र-छात्राएं भी गुजरते है जहाँ एकल मार्ग के चलते उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है.          

ज्ञात हो कि इन्ही परेशानियों को ध्यान में रखते हुए गडफुलझर के कार्यक्रम में को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने बसना से ओड़िसा मार्ग को नावनिकरण करने के लिए अगले बजट में मिलने की बात कही है. लेकिन इसके लिए लगभग 1 साल तक का समय लग सकता है और वर्तमान में सड़कों पर केवल गड्डे ही गड्डे हो चुके है.

परेशानियों के चलते क्षेत्र के लोगो द्वारा बार-बार बसना से पदमपुर मार्ग का मरम्मत और दोहरीकरण का मांग किया जा रहा था, जिसपर PWD  के अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार 9 किलोमीटर मार्ग के मरम्मत के टेण्डर निकला था जिसके तहत फिलहाल अभी बसना से पदमपुर रोड के मार्ग का मरम्मत किया जा रहा है.


मरम्मत किये जा रहे इस सड़क पर कई जगह ऐसे है जहाँ बीच-बीच मे मरम्मत का कार्य छोड़ दिया गया है. आखिर बीच-बीच में क्यो गड्ढो को डामरीकरण करके नही पाटा जा रहा है अभी इसके बारे में कुछ भी नही बताया जा सकता है. लेकिन एक बार मरम्मत हो जाने के बाद मार्ग में कितना बदलाव आता है इसका बाद में पता चलेगा.  वही बसना से पदमपुर मार्ग में साइड सोल्डर भी सुधारे जाने की बात अधिकारीयों द्वारा कही गई है.