news-details

गांव जाने वाली डामर सड़क मार्ग के आजबाजू झाड़ो के अतिक्रमण से वाहनों चालको में भय.

ग्रामीण क्षेत्रों के अधिकतर मार्गो पर जंगली झाड़ियो के साफ सफाई नही होने के कारण एकांकी मार्गो में 4 पहिया वाहनों के आने जाने से 2 पहिया वाहनो को भारी परेशानी और हमेशा दुर्घटना होने का डर बना रहता है.

बसना के पश्चिम दिशा मे नेशनल हाइवे क्र 53 से बाये हाथ में 01 km प्रधान मंत्री डामर सड़क खुर्सीपार गांव तक जाता है. जिसके अगल बगल में सड़क को जंगली घांस पूरी तरह ढंक दिया है. दो वाहनों को आपस में साइड देने के चक्कर में दुर्घटना का भय हमेशा बना हुआ है.

ग्राम खुर्सीपार बसना से महज चार से पांच किमी नजदीक है और विकासखण्ड विभाजन के कारण यह पिथौरा ब्लाक के अंतिम छोर में आता है और जिस विभाग द्वारा उस सड़क मार्ग का निर्माण कराया गया है उनके लापरवाही के कारण आज मार्ग के आजु-बाजू जंगली झाड़ियो का कब्जा देखने मिल रहा है.

समय समय पर सरकारी सम्पति को नुकसान पहुचाने के लिए अथवा अपने निजी स्वार्थो को पूरा करने के लिए लोग डामर सड़कों पर आर पार गड्ढे कर देते है या खेतो का पानी डामर सड़को पर बहाकर बगल के दूसरे खेतो में पानी द्वारा सिचाई करते प्रायः ग्रामीण राहगीरों द्वारा देखा जाता है परंतु उन्हें कोई भी राहगीर मना नही कर पाता है जिसके कारण सरकारी सम्पतियों का और नुकसान लगातार होता है जिसे पुनः जिंर्णोद्धार करने में वर्षों बीत जाता है इस मध्य में हुए सड़क पर गड्ढो के वजह से अधिकांश वाहन चालक दुर्घटना होकर घायल हो जाते हैं या उन सड़क हादसों में उनकी मृत्यु हो जाती है या कई गंभीर हो जाते है.