news-details

रायगढ़ - सिर में था दर्द , डॉक्टर के बजाय ओझा से करा रहे थे इलाज, युवती ने की आत्महत्या

रायगढ़:- जुर्डा की रहने वाली आग से 90 फीसदी झुलसी युवती ने मेकाहारा के बर्न यूनिट में इलाज के दूसरे दिन दम तोड़ दिया। युवती के पिता ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि युवती के सिर में तेज दर्द था। वह अपना इलाज डॉक्टर से कराना चाहती थी। जबकि घरवाले ओझा से झाड़फूंक करा रहे थे। परेशान होकर युवती ने आत्महत्या कर ली।

शुक्रवार की दोपहर 1 बजे जुर्डा निवासी सुचिता निषाद आग में बुरी तरह झुलस गई थी। उसे गंभीर हालत में मेकाहारा लाया गया। हादसे के बाद परिजन अपना बचाव करते हुए बयान दे रहे थे कि वह मेहमान के लिए खाना बनाने के दौरान चूल्हे की आग में झुलसी है। उसकी मौत के बाद जब पुलिस ने गंभीरता से पूछताछ शुरू की तो उसके पिता मनोहर निषाद ने कहा उसकी बेटी ने आत्महत्या की थी। उसने जो कारण बताए उससे पुलिस भी परेशान हो गई। पुलिस को उसने बताया उसकी बेटी पिछले तीन महीने से सिर दर्द से परेशान रहा करती थी।