news-details

स्वरोजगार के माध्यम से आर्थिक रूप से सशक्त बने - कलेक्टर जैन

महासमुंद। सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यमिता संबंधी शासन की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत हितग्राहियों को स्वरोजगार के स्थापना करने और उन्हें आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के साथ स्वालंबी बनाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा प्रयास किए जा रहे है। इन प्रयासों के अंतर्गत जिले के विभिन्न विकासखंडों में शिविरों का आयोजन किया जा रहा है, जहां शिविर स्थल पर ही हितग्राहियों के आवेदनों को स्वीकृत कर उन्हें स्वीकृति पत्र ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है।

इसी तारतम्य में कलेक्टर सुनील कुमार जैन के निर्देश एवं मार्गदर्शन में सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यमिता (एमएसएमई) प्रमोशन प्रोग्राम के तहत आज बसना विकासखंड के भंवरपुर में ग्राम पंचायत के प्रांगण में शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर में सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यमिता संबंधी शासन की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 14 हतग्राहियों 24 लाख 63 हजार रूपए का ऋण स्वीकृत कर शिविर स्थल पर ही हितग्राहियों को स्वीकृति पत्र वितरित किया गया। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज रघुवंशी, एसडीएम सरायपाली विनय कुमार लंगेह, अपर कलेक्टर आलोक पाण्डेय विशेष रूप से उपस्थित थे।

शिविर में उपस्थित ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने कहा कि लघु, सूक्ष्म एवं सीमांत लोगों के लिए ऋण उपलब्ध कराकर उन्हें स्वयं का रोजगार स्थापित करने के लिए जिले में शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। उद्यमितता एवं स्वरोजगार स्थापना के इच्छुक लोगों को स्वालंबी बनाने के लिए यह प्रयास किए जा रहे है।
उन्होंने कहा कि जिले के स्व सहायता समूह भी विभिन्न योजनाओं के तहत ऋण का लाभ लेकर रोजगार स्थापित कर रहे है। उन्होंने कहा कि रोजगार के माध्यम से महिला स्व सहायता समूह, विभिन्न प्रकार के उत्पाद तैयार करने में लगे है। इन समूहों के उत्पादों को जिले के विभिन्न शासकीय विभागों में उपयोग के लिए निर्देशित किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि अन्य महिला समूह भी आगे आकर योजनाओं के तहत ऋण लेकर स्वरोजगार के स्थापना करें और आर्थिक रूप से सशक्त बने। उन्होंने कहा कि ऐसे शिविरों में ग्रामीणजन विशेष रूप से उपस्थित होकर विभिन्न शासकीय विभागों के अधिकारियों द्वारा विभागों के माध्यम से संचालित योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी जाती है, उसका लाभ उठाए। उन्होंने आमजन से आग्रह किया कि इन शिविरों में उपस्थित होकर जो उद्यम स्थापित करना चाहते है, उसके लिए आवेदन भी प्रस्तुत कर सकते है। अधिकारीगण उनका त्वरित निराकरण करेंगे।

कलेक्टर ने कहा कि लघु एवं छोटे व्यवसायियों के लिए जेम पोर्टल की व्यवस्था की गई है, इसके द्वारा ऑनलाईन खरीदी की जाती है तथा देश भर में इसके लिए बाजार उपलब्ध होता है। जिले के अनेक ऐसे उद्यमी है जो विभिन्न प्रकार के अच्छे उत्पाद तैयार कर रहे है। वे सभी जेम पोर्टल में पंजीयन करा सकते है और अपना उत्पाद आसानी से विक्रय कर सकते है।

शिविर स्थल पर जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, ग्रामोद्योग, कौशल विकास विभाग, श्रम विभाग, हाथकरघा, अंत्यावसायी, सहकारी वित्त एवं विकास निगम, जिले के बैंकर्स सहित अन्य रोजगार से जुड़े विभागों के संयुक्त समन्वय से स्वरोजगार एवं हितग्राहीमूलक योजनाओं से लाभान्वित करने के उद्देश्य से अपने अपने विभाग की जनकल्याणकारी एवं हितग्राहीमूलक योजनाओं की जानकारी दी और किस तरह लाभ उठाया जा सकता है, उनकी संम्पूर्ण प्रक्रियाओं से अवगत कराया गया। इन उद्यमिता शिविरों के साथ-साथ आज यहां स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिव्यांगजनों के प्रमाण पत्रों का नवीनीकरण करने के साथ-साथ नए का पंजीयन के लिए शिविर का आयोजन किया गया, जहां बड़ी संख्या में दिव्यांगजन उपस्थित होकर अपने प्रमाण पत्रों का नवीनीकरण एवं पंजीयन का कार्य संपादित कराया। इसे अलावा विश्व मधुमेह दिवस के अवसर पर बड़ी संख्या में लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया गया। श्रम विभाग द्वारा शिविर स्थल पर ई-रिक्शा का वितरण किया गया वहीं श्रममिकों को श्रमिक कार्ड का वितरण भी किया गया। इसके साथ ही कौशल विकास उन्नयन के तहत प्रशिक्षित युवाओं को प्रमाण पत्र भी वितरित किए गए।

शेयर करें