news-details

छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना के समर्थन पर भूख हड़ताल पर बैठे शेखर ने तोड़ा अनशन

बागबाहरा के रिहायसी इलाके शहर के बीचो बीच में संचालित शारदा राईस मिल के राखड़ एवम् गंदे पानी के बदबू गन्दे पानी से स्वास्थ पर काफी बुरा असर पड़ रहा है. आस पास के लोग बीमार पड़ते जा रहे है जिससे शहर वासीयो को काफी परेसानी का सामना करना पड़ रहा है जिससे नगरवासियो द्वारा काफी समय से प्रशासन को राईस मिल हटाने की माँग कर रहे है. लेकिन प्रशासन के द्वारा किसी भी प्रकार का सुध  नही लिया गया और न ही कोई कार्यवाही की गयी.

एक सप्ताह पूर्व प्रशासन को अवगत कराते हुए उक्त मिल को शहर से बहार विस्थापित करने के लिए एक सप्ताह का समय दिया गया था. साथ ही चेतावनी दी गयी थी किसी भी प्रकार की कार्यवाही नही करने की स्तिथि में नगरवासी द्वारा भूक हड़ताल पर बैठ जायेंगे. और एक सप्ताह बाद किसी भी प्रकार की कार्यवाही नही होने पर 22 जनवरी को शेखर चंद्राकर भूख हड़ताल पर बैठे.

तीन दिन भूख हड़ताल पर बैठे शेखर चंद्राकर को प्रशासन द्वारा कीसी भी तरह का मजबूत अस्वासन नही मिला, भूख हड़ताल की जानकारी मिलते ही छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना के पदाधिकार बागबाहरा पहुचकर वहां परेशानियों  जायजा लिए और का समर्थन किये. छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना के समर्थन की भनक लगते ही प्रशासन हरकत में आयी और अनशर पहुच कर प्रकरण दर्ज कर जल्द से जल्द कार्यवाही करने का अस्वासन दिया गया.

छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना के प्रदेश अध्यक्ष अमित बघेल ने पानी पिला कर अनशन तोड़वाय और कहा की एक महीना के भीतर प्रशासन द्वारा कारवाही नही की जायेगी तो छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना अपना कार्यवाही जबर लउठी रैली निकाल कर करेगी.

शेयर करें