news-details

स्कूल में शिक्षका ने दिया शर्मनाक घटना को अंजाम ! रोते हुए घर पहुंची चौथी की छात्रा, अधिकारी बोले लिखित शिकायत पर ही होगी कार्रवाही.

पिथौरा ब्लाक अंतर्गत ग्राम पंचायत खुर्शिपाहर के आश्रित ग्राम साल्हेतराई में स्थित प्राथमिक शाला में एक शर्मनाक घटना सामने आई है. जहाँ एक महिला टीचर ने छात्रा के कपड़े फाड़ दिए.

जानकारी के अनुसार ग्राम साल्हेतराई के प्राथमिक स्कूल में कक्षा चौथी पढ़ने वाली छात्रा को तब शर्मसार होना पड़ा जब उसे गिनती नहीं आने के कारण उसके कपड़े फाड़ कर उसकी बेज्जती कर घर भेजा गया. जिसके बाद वह बच्ची रोते सिसकते अपने घर पहुंची और अपने परिजनों को इस घटना के बारें में जानकारी दी.

इस घटना के जानकारी मिलते ही गाँव के वरिष्ठ नागरिक, महिला सरपंच श्रीमती कल्याणी प्रधान और पंचायत के लोग गाँव के प्राथमिक स्कूल पहुंचे और इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि स्कूल के इतिहास में आज तक कभी इतनी निंदनीय घटना हुई, जिस तरह से इस घटना को एक महिला शिक्षक द्वारा किया गया है. इस घटना के चलते पलकों में भी अत्यंत आक्रोश देखने को मिला.

वहीं इस घटना के बाद स्कूल में बच्ची का बयान लेते हुए एक वीडियो भी बनाया गया और उसे सोशल मिडिया में जारी किया जिसके बाद महिला टीचर की बहुत निंदा की जा रही है. बताया गया कि वीडियो को सोशल मीडिया में डालने के बाद बसना के कुछ वकील भी फोन किए थे और पास्को एक्ट के तहत कार्यवाही की माँग करने के लिए बोला गया है.  

वही ग्राम के सरपंच पति ने बताया की छात्रा के साथ जो निंदनीय घटना हुई है उसके लिए कठोर कार्यवाही की माँग कर थाना में लिखित शिकायत दी जाएगी.

जब इस घटना को लेकर ब्लाक शिक्षा अधिकारी से संपर्क किया गया तो पता चला कि इस बात की कुछ जानकारी उन्हें पहले से है और शिक्षिका से इस मामले को लेकर पुछताछ भी की है. ब्लाक शिक्षा अधिकारी को शिक्षिका द्वारा बयान दिया गया है कि स्कूल में कुछ दिन पूर्व गणवेश का वितरण किया गया था जबकि छात्रा पुराने कपड़े पहनकर आई थी और जब वो इसे पूछने के लिए उसके कपड़े छुई तो इतने में ही उसका कपड़ा फट गया.

हलाकि ब्लाक शिक्षा अधिकारी ने यह भी बताया कि इस मामले पूरी जानकारी उन्हें नहीं है और ना ही इस घटना का कोई वीडियो उनके पास है जिसके बाद cgsandesh.com द्वारा उनको वह विडियो भेजा गया. उन्होंने बताया कि ग्रामीणों द्वारा केवल फ़ोन कर ही उन्हें इस मामले की जानकारी दी है लेकिन उनके पास कोई लिखित शिकायत नहीं है और लिखित शिकायत होने पर ही वो कार्रवाही करने की बात कर रहें है. जिसके बाद छात्रा के परिजनों से भी मिलने की बात कही गई.

जबकि जिला शिक्षा अधिकारी बीएल कुर्रे से मामला की अवगत कराने पर कहा कि, छात्रा को गिनती नही आती तो कपड़ा फाड़ कर प्रताड़ित करना गलत बात है जाँच कर कार्यवाही किया जाएगा.