news-details

राखी के लिए शहर में जगह-जगह सज गई है दुकानें, त्यौहार को देखते हुए कपड़े के दुकानों में ऑफर की धूम

सरायपाली. रक्षाबंधन पर्व को लेकर शहर में कुछ दिनों से भीड़भाड़ बढ़ गई है. बाजार में इस बार कई डिजाइन एवं आकर्षक राखियों की भरमार देखी जा रही है. राखी के अवसर पर दिए जाने वाले उपहार कपड़े आदि की खरीदी जोर शोर से शुरू हो गई है. इसके लिए कई दुकानों में आकर्षक ऑफर दिए जा रहे हैं. शहर के सभी मार्गों में राखियों की दुकानें सज गई हैं.

इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस एवं राखी का पर्व एक साथ पड़ने के कारण नौकरी-पेशा लोगों में थोड़ी मायूसी देखी जा रही है. इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर नई मण्डी में रखे गए सामूहिक कार्यक्रमों में भी कटौती की गई है. इस वर्ष बहुत कम स्कूलों के सामूहिक कार्यक्रम ही होंगे. भाई बहन के स्नेह का पवित्र त्यौहार रक्षाबंधन को लेकर युवतियों में सबसे अधिक उत्साह देखा जा रहा है.

आगामी 15 अगस्त को रक्षा बंधन त्यौहार को देखते हुए दूर दराज राखी बांधने के लिए बहनों का जाना प्रारंभ हो चुका है. इसके अलावा त्यौहार के अवसर पर बहनों को कई तरहों के भेंट देने के लिए खरीददारी धीरे धीरे शुरू हो रही है. अनेक आकर्षक ऑफर मिलने के कारण कपडे“ की दुकानों में इन दिनों अधिक भीड़-भाड़ देखी जा रही है. दूर दराज में रहने वाले भाईयों के लिए डाक एवं कोरियर के माध्यम से भी राखी भेजी जा रही है. शहर के राष्ट्रीय राजमार्ग, पदमपुर रोड, पुरानी मण्डी, झिलमिला, महलपारा, पतेरापाली रोड सभी जगहों पर राखियों की दुकानें बड़ी संख्या में सज गई हैं.

कुछ राखी विक्रेताओं ने बताया कि बाजार में इस वर्ष 2 रूपए से लेकर 500 रूपये तक की महंगे राखियां भी उपलब्ध है. लेकिन 5 रू से लेकर 20 रू तक की राखियों की बिक्री ही अधिकतर हो रही है. खिलौने वाला राखी, रू द्राक्ष राखी, पूजा राखी, चांदी राखी, स्टोन राखी, मेटल राखी आदि कई तरह की राखियाँ आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं.

शासकीय कर्मचारियों में मायूसी

इस वर्ष 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के दिन ही राखी का भी त्यौहार पड़ने के कारण शासकीय कर्मचारियों में राखी को लेकर मायूसी छायी हुई है. शासकीय कर्मचारी ध्वजारोहण करने के बाद बाद ही राखी के लिए कहीं निकल पायेंगे. ऐसी स्थिति में दूर जाने वालों के लिए परेशानी हो सकती है. इसके अलावा विगत दिनों के मौसम को देखते हुए राखी के दिन भी मौसम साफ रहेगा या नहीं इसके लिए संशय की स्थिति बनी हुई है.