news-details

14 क्विंटल वजन और 15 किलोमीटर लंबाई का तिरंगा बनाकर छत्तीसगढ़ ने रच दिया इतिहास, पुलिस, जवान, छात्र, सामाजिक संगठन, आम नागरिक सभी हुए तिरंगा यात्रा में शामिल.

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य की राजधानी रायपुर में कल रविवार सुबह करीब 10 हज़ार लोगों ने मानव श्रृंखला बनाकर 15 किलोमीटर लंबे तिरंगे झंडे के साथ इतिहास रच दिया गया। इस मानव श्रृंखला में सीआरपीएफ पुलिस स्कूली बच्चे और आम नागरिक सभी ने शिरकत की। 15 किलोमीटर लंबी इस मानव श्रृंखला में 15 किलोमीटर लंबे तिरंगे के साथ लोगों ने राष्ट्र में एकता अखंडता और सद्भावना का अविस्मरणीय संदेश दिया।

इस कार्यक्रम के दौरान कई मनोरंजक झांकियां प्रस्तुत की गई जिसमें chandrayaan-2, नाग मिसाइल और इंडिया गेट की झांकी आकर्षण का केंद्र थी। वसुधैव कुटुंबकम फाउंडेशन की ओर से स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में यह तिरंगा यात्रा आयोजित की थी।

इसमें 15 किलोमीटर लंबे तिरंगे को करीब 10 हजार लोगों ने हाथों में थामकर आमापारा से पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय तक श्रृंखला बनाई।सुबह बंगाली समाज के लोगों ने अपनी परंपरा के अनुसार आमानाका चौक में धुनची आरती की। इस दौरान 51 पंडितों ने मंत्रोच्चार किया। इसके बाद 10 दिव्यांग व्हीलचेयर के साथ तिरंगा मार्च पास्ट करते हुए आगे बढ़े।इसे बनाने में करीब 14 क्विंटल कपड़े का उपयोग हुआ है।

इस कार्यक्रम को चैम्पियन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ने विश्व कीर्तिमान बताया है। वहीं, कार्यक्रम के समापन समारोह में चैम्पियंस बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के प्रतिनिधियों द्वारा विश्व कीर्तिमान स्थापित करने की घोषणा की गई और वर्ल्ड रिकॉर्ड का सर्टिफिकेट प्रदान किया गया। ऑस्ट्रेलिया की संस्था ब्रेव बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ने भी वर्ल्ड रिकॉर्ड का सर्टिफिकेट प्रदान किया।

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और अजीत जोगी भी शामिल हुए। इस दौरान 40 शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया गया.