news-details

विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस पर आयोजित हुआ जिला स्तरीय कार्यक्रम.

विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस पर आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में मुख्य अतिथि माननीय सांसद श्री चुन्नीलाल साहू ने जिला प्रशासन की पहल नवजीवन के अंतर्गत इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करने पर साधुवाद देते हुए कहा कि जिले को आत्महत्या अवसाद मुक्त कराने में यह मील का पत्थर साबित होगा.

इस अवसर पर जिला कलेक्टर श्री सुनील कुमार जैन नवजीवन कार्यक्रम के अंतर्गत पूरे प्रदेश में सर्वाधिक आत्महत्या करने वाले जिले में से एक होने के कारण जिले को इस सामाजिक बुराई से मुक्त कराने के लिए समाज के सहयोग से नवजीवन कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है. नवजीवन कार्यक्रम के अंतर्गत प्रत्येक गांव में नवजीवन शाखा एवं नौजवान सखी का चयन का प्रशिक्षण दिया गया है. स्कूल के समाजसेवी शिक्षक को नवजीवन परत के रूप में प्रशिक्षित किया गया है. प्रत्येक गांव में नवजीवन केंद्र बनाकर अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों को तनाव मुक्त कराने हेतु गांव स्तर पर खेलकूद की सामग्री एवं अच्छे साहित्य उपलब्ध कराए जा रहे हैं.


नवजीवन कार्यक्रम की विस्तृत जानकारी देते हुए कलेक्टर महोदय ने बताया कि इसी कड़ी में आत्महत्या का सामाजिक अंकेक्षण भी किया जा रहा है जिससे कि हम अध्ययन कर सकें. हत्या के कारणों को पता लगाते हुए शासकीय योजनाओं को जोड़ते हुए लोगों को योजनाओं का लाभ दिलाते हुए आत्महत्या करने वालों को अवसाद मुक्त करते हुए रोका जा सके.


कार्यक्रम के दौरान नवजीवन गोष्टी के अवसर पर रायपुर से आए मनोरोग विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ सोनिया परियल एवं डॉ प्रीति सिंह ने अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों की पहचान किस प्रकार से की जा सकती है और उन्हें चिकित्सक तक लाने के लिए लोगों को प्रेरित किया.


इस दौरान दिशा नाट्य मंच द्वारा नवजीवन के संबंध में अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों को नवजीवन प्रदान करने के संबंध में नाटक के माध्यम से प्रस्तुतीकरण दी, साथ ही शासकीय नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं एवं माता कर्मा महाविद्यालय की छात्राओं ने कॉलेज के बच्चों में किस प्रकार से अवसाद ग्रस्त को मुक्त करने का बेहतरीन प्रदर्शन किया.

डॉक्टर आर के परदल ने राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के संबंध में जिला चिकित्सालय एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिला चिकित्सालय एवं सभी शासकीय संस्था संस्थाओं में निशुल्क चिकित्सा की सुविधा देने के संबंध में जानकारी देते हुए प्रत्येक अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों को आध्यात्मिकता से जोड़ते हुए और साथ मुक्त करने में सभी से सहयोग करने की अपील की.

कार्यक्रम के अंत में माननीय सांसद महोदय द्वारा शपथ दिलाते हुए सभी व्यक्तियों को अपने परिवार को समाज को शहर को एवं जीने को और साथ मुक्त करते हुए आत्महत्या रोकने में अपनी मनोयोग से सहयोग करने की शपथ दिलाई.

इस अवसर पर आभार प्रदर्शन श्री आलोक पांडे अपर कलेक्टर ने सभी गणमान्य नागरिकों कॉलेज स्कूल के अध्यापकों एवं शिक्षकों इस कार्यक्रम में आयोजन में सहयोग प्रदान करने के लिए विशेष रूप से मीडिया को धन्यवाद ज्ञापित किया.


उक्त कार्यक्रम में मुख्य रूप से श्री दाऊ लाल चंद्राकर नगरपालिका उपाध्यक्ष श्रीमती बंसल, राज्य सलाहकार श्रीमती सोनी जैन, अनुविभागीय अधिकारी श्री सुनील चंद्रवंशी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर एस पी वारे, जिला कार्यक्रम प्रबंधक एवं जिला नोडल अधिकारी नवजीवन श्री संदीप ताम्रकार, मानसिक स्वास्थ्य जिला नोडल अधिकारी डॉ. छत्रपाल चंद्राकर, जिला शिक्षा अधिकारी श्री कुर्रे, मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री रमेश जयसवाल सहित नगर के अनेक समय समाजसेवी धर्मगुरु स्कूल कॉलेज के प्राध्यापक, शिक्षक, विद्यार्थी, एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे.