news-details

हाथियों के दल से अभी भी बना हुआ है खतरा, गोमर्डा में विचरण कर रहे हैं हाथी

वन विभाग द्वारा सीमावर्ती गांवों में एलर्ट जारी

सरायपाली. ब्लॉक की सीमा से लगे गोमर्डा अभ्यारण्य एवं उसके आस-पास अभी भी हाथियों का दल विचरण कर रहा है, जिसके कारण उस क्षेत्र के ग्रामीणों में दहशत बना हुआ है. हालांकि विगत तीन दिनों पूर्व घेंसपाली एवं कलेण्डा में हाथियों के दल द्वारा फसल का नुकसान किए जाने की घटना के बाद से अभी तक और किसी भी किसान या ग्रामीणों का किसी प्रकार का नुकसान हाथियों के द्वारा नहीं किया गया है. इसके बावजूद वन विभाग द्वारा गोमर्डा के सीमावर्ती गाँवों में एलर्ट जारी किया गया है.

सारंगढ़ ब्लॉक के अंतर्गत गोमर्डा अभ्यारण्य एवं उसके आसपास के गाँवों में इन दिनों हाथियों का दल विचरण कर रहा है. जानकारी मुताबिक यहाँ कुल 19 हाथियों का दल है जिसमें12 नर-मादा के अलावा 7 शावक हाथी देखे गए हैं. हालांकि हाथियों से अब तक न किसी का मकान और न ही कोई जन हानि हुई है, वे केवल फसल को ही नुकसान पहुँचा रहे हैं.आबादी क्षेत्र में भी हाथियों के पहुँचने की सूचना नहीं मिली है. उन्हें केवल खेतों और जंगल में ही विचरण करते हुए ग्रामीणों द्वारा देखा गया है. किसानों के कई एकड़ फसल को वे अब तक बर्बाद कर चुके हैं.

विगत 4 सितम्बर को ग्राम घेंसपाली के दो किसान उत्तम पटेल एवं प्रहल्लाद पटेल के खेत में लगे धान को हाथियों ने रौंद दिया था. वन विभाग को इसकी जानकारी मिलने के बाद ऐहतियात के तौर पर आसपास के ग्रामीणों को सतर्क रहने की सलाह देते हुए उनके द्वारा मुनादी करवायी गई थी. इसके बाद हाथियों का दल ग्राम कलेण्डा, भगत सरायपाली से होते हुए वापस जंगल की ओर चला गया था. लेकिन अभी भी ग्रामीणों के लिए खतरा नहीं टला है.

इसे देखते हुए सीमा से लगे सरायपाली ब्लॉक के भी कुछ गाँवों की ओर उनके पुनरू लौटने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता. लोगों के जान-माल को भी नुकसान न पहुंचे इसके लिए वन विभाग द्वारा सीमावर्ती ग्रामों घेंसपाली, कंवरपाली,छुईपाली, बिरकोल, परसकोल, कलेण्डा, सुखापाली, भगत सरायपाली आदि के लिए एलर्ट जारी किया गया है.

इन क्षेत्र के ग्रामीणों को जंगल में जाने की मनाही की गयी है एवं शाम होने के बाद कहीं जाने से बचने की सलाह भी वन विभाग के द्वारा दी गयी है.वन विभाग की ओर से जंगल किनारे बसे ग्रामीणों को अपने घरों के सामने सूखी मिर्च को जलाने की सलाह दी गयी है. जिससे हाथी आबादी क्षेत्रों तक न पहुंच सके. वन विभाग द्वारा हाथियों पर नजर रखे हुए हैं, ताकि किसी तरह आबादी क्षेत्र में घुसकर कोई जन हानि न कर दें.