news-details

वन रक्षक पर भुगतान राशि में धांधली और नाबालिग बच्चों से कार्य कारने का आरोप.

पिथौरा वन परिक्षेत्र के अंतर्गत बुंदेली वन परिक्षेत्र कक्ष क्रमांक 220 मे केम्पा योजना के अंतर्गत कराया जा रहा वृक्षारोपण कार्य मे मजदूरों के भुगतान राशि में धांधली और नाबालिग बच्चों से कार्य  कारने की बात सामने आई है.  

मिली जानकारी के अनुसार शासन द्वारा वन विभाग को केम्पा योजना मे वृक्षारोपण का कार्य कराया जाता है जिसमें स्थानीय मजदूरों को रोजगार मुहैया कराया जाता है और शासन द्वारा तय राशि में भुगतान किया जाता है. लेकिन पिथौरा वन परिक्षेत्र के बुंदेली कक्ष क्रमांक 220 मे इस योजना के तहत कार्य में वृक्षारोपण कर रहे मजदूरों ने आरोप लगाया कि उन्हें तय राशि 280 रुपये की जगह 200 का ही भुगतान दिया जाता है.

इसके अलावा यहाँ पर नाबालिग़ बच्चों द्वारा भी कार्य कराये जाने का आरोप है कार्यरत वन रक्षक अमृतलाल आंवले पर लगाया गया है. जानकारी के अनुसार बुंदेली कक्ष क्रमांक 220 के वन रक्षक अमृतलाल आंवले का स्थानांतरण अन्य जगह हो चुका है और उन्हें भारमुक्त किया जा चुका है.

सोचने वाली बात है स्थानांतरण हो चुके वन रक्षक का अभी भी उस कक्ष मे कार्यरत होना व वहाँ के कार्य को क्रियान्वित करना वहाँ के मजदूरों का राशि भुगतान मे धांधली, नाबालिग बच्चों से कार्य लेना बिना अधिकारी की जानकारी मे होना शक पैदा करता है. क्योंकि इस मामले मे पिथौरा रेंजर ने बिना जांच व जानकारी के ऐसा होने से इंकार कर दिया.