news-details

सभी देश अपने नागरिकों के डेटा सुरक्षा करें सुनिश्चितः भारत

भारत ने कहा कि राष्ट्रों को अपने नागरिकों के लिए डेटा सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। पेरिस शांति मंच में बोलते हुए विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा... बाहर और अंदर से समर्थन मिलनेवाला आतंकवाद राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक सुरक्षा के लिए स्पष्ट खतरा पैदा करते हैं।

भारत ने डिजिटल क्षेत्र में चरमपंथी एवं आतंकवादी ताकतों के प्रवेश को रोकने के लिए राष्ट्रों द्वारा द्विपक्षीय या बहुपक्षीय ढंग से समन्वित कार्य करने की मंगलवार को अपील की।  विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने साइबर जगत के संचालन से जुड़े मुद्दों पर पेरिस शांति मंच पर कहा कि महत्त्वपूर्ण ढांचों पर साइबर हमलों के साथ ही खास तरह के सुरक्षा खतरों से निपटने के लिए देशों को तेज कार्रवाई एवं इसे कम करने की व्यवस्था पर विचार करना चाहिए।  उन्होंने कहा कि ऑनलाइन उपलब्ध आतंकवादी एवं हिंसक चरमपंथी कंटेंट को खत्म करने के लिए क्राइस्टचर्च अपील को भारत का समर्थन देश की प्रतिबद्धता को दर्शाता है कि ‘‘वह एक जैसा सोचने वाले देशों के साथ काम करना चाहता है ताकि संपूर्ण डिजिटल जगत हमारी सुरक्षा को जोखिम में डाले बिना हमारे समाज एवं अर्थव्यवस्थाओं को आगे ले जाने में काम आए। ऑनलाइन आतंकवाद एवं चरमपंथ से निपटने और इंटरनेट को सुरक्षित रखने की बड़ी पहल शुरू करने में भारत फ्रांस, न्यूजीलैंड, कनाडा और कई अन्य देशों के साथ शामिल हुआ है।