news-details

आग से झुलसी छात्रा, फोन के बावजूद नहीं पहुची 108 संजीवनी एक्सप्रेस

रायगढ़;-  हड़ताल थमने के बाद नहीं मिली एंबुलेंस तो परिजन मरीज को निजी वाहन से लेकर पहुंचे।


मेहमान के लिए चूल्हे में खाना बनाते समय केएमटी की 22 साल की छात्रा सचिता निषाद की दुपट्‌टे में आग लगने से युवती गंभीर रूप से झुलस गई। युवती के चिल्लाने पर परिजन दौड़कर आए और आग को बुझाया। युवती को मेकाहारा की बर्न यूनिट में भर्ती किया गया हैं। परिजन के फोन करने पर 108 एंबुलेंस के ड्राइवर ने व्यस्त होने के कारण आने से इनकार कर दिया।

रायगढ़ तहसील के जुर्डा निवासी सचिता निषाद पिता मनोहर निषाद 22 साल शुक्रवार की दोपहर 1 बजे घर आए मेहमान के लिए खाना बना रही थी। चूल्हे की आग में उसका दुपट्‌टा चला गया। उस समय तेज हवा चल रही थी, इससे चूल्हे की आग युवती के दुपट्टे में लग गई। काम में व्यस्त युवती को आग लगने का पता नहीं चला। आग तेजी से पूरे शरीर में फैल गई। युवती के चिल्लाने पर परिजनों ने दौड़कर आग बुझाने का प्रयास किया। किसी तरह पानी डालकर आग बुझाई गई। गंभीर रूप से घायल युवती को अस्पताल लाने के लिए परिजनों ने 108 को फोन किया पर चालक ने व्यस्त होने की बात कहते हुए फोन काट दिया। परिजन किराए पर निजी वाहन लेकर युवती को मेकाहारा लेकर आए। युवती की हालत गंभीर बताई जा रही है।

केएमटी कॉलेज में फायनल ईयर की स्टूडेंट है युवती

परिजन ने बताया युवती सचिता निषाद के एमटी कॉलेज में एमए फायनल ईयर की स्टूडेंट है। परिवार में विवाह होने से शुक्रवार को वह कॉलेज नहीं आई थी। परिवार के सभी सदस्य शादी घर में खाना खा चुके थे। खाना खाने के बाद मेहमान आ गए इसलिए वह उनके लिए खाना बना रही थी।

शेयर करें