news-details

छेड़छाड़ का आरोपी थाने से ही हो गया फरार ? पीड़िता के परिजनों ने कहा मोटी रकम लेकर भगाया गया आरोपी को..! टी.आई.का कहना अलग....पढिये क्या है पूरी खबर..

जांजगीर चाम्पा जिले के हसौद थाना क्षेत्र मामला है जहाँ सबसे पहले पुलिस एक आरोपी को पकड़ कर थाने ले आती है फिर शिकायतकर्ता के शिकायत के आधार पर एफआईआर भी दर्ज कर लेती है लेकिन रिमांड पेश करने के बजाय पुलिस आरोपी को ही थाने से फरार बता देती है।

पूरा मामला दिनाँक-18/11/20 की है । हसौद थाना अंतर्गत ग्राम पंचायत डोटमा जहाँ एक नाबालिग लड़की अपने घर के आंगन में अपने छोटे भाई-बहन और दादा जी के साथ अपने कमरे में सो रही थी तभी शुबह करीब 4:00 बजे गाँव के ही एक नाबालिग लड़का उसके घर गलत कृत्य करने के नियत से उसके साथ उसका हाथ पकड़ कर छेड़खानी करने लगता है तभी नाबालिग लड़की की आँख खुलती है और वह जोर-जोर से चिल्लाने व चीखने लगती है. 

तभी उसके घर मेहमान आये लड़की के जीजा दौड़ते-भागते लड़की के कमरे की ओर भागता है तब वह देखता है कि एक लड़का उसके साथ जबरजस्ती करने की कोशिश कर रहा है, वह लड़के को लड़की से दूर करने की कोशिश करता है एवं चीख़ने-चिल्लाने की आवाज सुन कर घर के अन्य सदस्य व पड़ोसी भी आ जाते है फिर ग्राम पंचायत के सरपंच को बुलाया जाता है जिसके बाद सरपँच द्वारा डायल 112 को फोन कर घटना के बारे में बताया जाता है जिसके बाद डायल 112 में तैनात सिपाही वीरेंद्र सिदार व किशोर सिदार मौके पर पहुँचे जिसके बाद आरोपी लड़के को डायल 112 की मदद से हसौद थाना लाया जाता है। 

पीछे-पीछे पीड़िता,पीड़िता की माँ,भाई और उसके परिजन भी थाना पहुँचते है। पीड़िता के द्वारा पुलिस को बताया जाता है कि उक्त लड़का उसको काफी दिनों से परेशान कर रहा है तथा स्कूल जाते समय भी वह लड़का उसे परेशान किया करता है जिस पर हसौद पुलिस के द्वारा पीड़िता के शिकायत व घटना और गवाहों के आधार पर धारा 452,457,354 व 8 पास्को एक्ट के तहत जुर्म दर्ज कर लिया जाता है।

लेकिन इस मामले में तब एक नया पेंच फंस गया जब आरोपी को पुलिस फरार बताने लगती है..! एक ओर डायल 112 के सिपाही ही आरोपी लड़के को थाना लेकर आये थे व थाने में लगभग 30-35 घंटे तक आरोपी को थाने में ही रखे थे वहीं दूसरी ओर पत्रकारों द्वारा इस मामले में वर्जन लेने के दौरान हसौद थाना द्वारा आरोपी को फरार बताया जा रहा हैं।
पीड़िता पक्ष ने पुलिस के ऊपर आरोप लगाते हुए कहा है कि पुलिस ने मोटी रकम लेकर आरोपी को छोड़ दिया हैं।

क्या कहना है थाना प्रभारी मिंज का:-

लेकिन इस मामले में जब हसौद थाना प्रभारी एम एम मिंज से मीडिया ने सम्पर्क किया तो उन्होंने बताया कि न तो आरोपी फरार है न ही उसे थाने से भगाया है ।चूंकि आरोपी भी नाबालिग (17 वर्ष)है इसलिए आरोपी को सम्प्रेक्षण गृह कोरबा भेजा गया है। पुलिस पर लगाये जा रहे आरोप सरासर गलत है ।






ad

ad

loading...