news-details

छत्तीसगढ़ के सिसोदिया के नेतृत्व में इंडियन कॉमनवेल्थ गेम्स टीम ने रचा इतिहास, जीते 66 मेडल, पहले भी इंटरनेशनल स्तर पर दिला चुके हैं कई अहम मुकाम

रायपुर: ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में 4 से 15 अप्रैल तक संपन्न हुए 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में भारतीय दल के प्रमुख (चीफ डी मिशन) विक्रम सिंह सिसोदिया के नेतृत्व में भारतीय टीम ने इस साल शानदार प्रदर्शन किया है। इससे न केवल भारत का बल्कि छत्तीसगढ़ का नाम भी अंतर्राष्ट्रीय पटल पर रौशन हुआ है। छत्तीसगढ़ को इंटरनेशनल लेबल पर नयी पहचान मिली है। उनके मार्गदर्शन में भारतीय कॉमनवेल्थ गेम्स टीम ने इस बार इतिहास रचा है। भारत टीम ने 26 गोल्ड मेडल समेत कुल 66 (20 सिल्वर, 20 ब्रॉन्ज) पदक जीते हैं।

इस तरह साल 2014 के ग्लास्गो कॉमनवेल्थ गेस्म में जीते 64 पदकों से इस बार भारतीय दल का बेहर प्रदर्शन रहा है। गोल्ड कोस्ट में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बाद तीसरे नंबर पर रही। भारत ने 15 खेलों में हिस्सा लिया और 9 में मेडल जीते हैं। इससे पहले भारत ने दिल्ली कॉमनवेल्थ खेलों में कुल 101 पदक जीते थे। वहीं 2002 के मैनचेस्टर खेलों में कुल 69 मेडल मिले थे।

बता दें कि विक्रम सिंह सिसोदिया आईओए के कार्यकारिणी सदस्य और संयुक्त सचिव हैं। इसके अलावा छत्तीसगढ़ राज्य टेनिस संघ के अध्यक्ष और छग ओलिंपिक संघ के उपाध्यक्ष भी हैं। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री सचिवालय में विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी हैं।

छत्तीसगढ़ के लिए गौरव की बात

कॉमनवेल्थ गेम्स में सिसोदिया का चीफ डी मिशन के तौर पर शामिल होना छत्तीसगढ़ के लिए गौरव की बात है। इससे पहले भी उन्हें कई मौकों पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह मुकाम हासिल हो चुका है। इसके पहले वे जूनियर इंडियन भारतीय डेविस कप टीम के मैनेजर भी रह चुके हैं। ज्ञात हो कि भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने सिसोदिया की मदद के लिए तीन टीम प्रबंधकों की भी नियुक्ति की थी। गेम्स के दौरान दिन-प्रतिदिन की जिम्मेदारी में उनकी मदद करते रहे।

टेनिस और शूटिंग में भी दिखा चुके हैं जलवा

बता दें कि सिसोदिया टेनिस के शानदार खिलाड़ी हैं। वे कई टेनिस प्रतियोगिताओं में खेल चुके हैं। टेनिस में कई नेशनल टूर्नामेंट जीत चुके हैं।

वे टेनिस युगल के 35 प्लस वर्ग में खेलते हैं। इसके अलावा वे शूटिंग में भी गहरी रूचि रखते हैं। वे स्टैंडर्ड पिस्टल और रायफल शूटिंग वर्ग में कई स्पर्धाओं में हिस्सा ले चुके हैं।


शेयर करें