news-details

किराना दुकानों में बिक रही है गुटका, पेट्रोल अधिक दामों में बेचकर व्यापारी कर रहे है मुनाफाखोरी.

शासन ने वैश्विक महामारी से निपटने के लिये किराना दुकान में सिर्फ खान-पान की असुविधा को देखते हुये नियम से दुकानों में खाद्य सामानों की बिक्री हेतु समय खोलने का निर्देश दिया गया है। किंतु किराना व्यापारियों के द्वारा दुकान में खाद्य सामग्री के अलावा गुटका भी बेचा जा रहा है,  गुटका जो कि पांच रूपये बिकता था,  अब दुकानों में कालाबाजारी कर इसका रेट आठ रूपये में बंच रहे है.

इसी के साथ में ग्रामीण क्षेत्र के दुकान मे बड़ीआसानी से पेट्रोल बेचते देखे जा सकते है. ग्रामीण क्षेत्रों में 90 से 100 रूपये में पेट्रोल बेचे जा रहे है. जिससे किराना के व्यापारी मुनाफाखोरी कर हो रहे है मालामाल.

पटेवा थाना क्षेत्र के ग्रामीण के बताये अनुसार गांवों में किराना दुकान संचालन कर्ता ने बताया कि हम छोटे दुकानदार है जब हमारे द्वारा सामान के लिये गये तो बड़े व्यापारी ने तेल के भाव 1500 बताया. जिससे हम लेने से इंकार कर दिया,  समाचार के माध्यम में हम प्रशासन को बताना चाहते है इस तरह से दुकानदार मुनाफाखोरी कर रहे है.

लाकडाउन का असर सिर्फ शहरों में देखने को मिल रहा है. ग्रामीण क्षेत्र में लाकडाउन का असर ग्रामीणों पर नहीं दिख रहा है. इस ओर पुलिस प्रशासन को ध्यान देने की जरूरत है. ग्रामीण क्षेत्रों से भारी मात्रा में देशी कच्ची शराब बेचा जा रहा है. लाक डाउन में ग्रामीण क्षेत्रों में शराब बनाया जाने की खबर है. जिसे शहरों में सप्लाई किया जा रहा है. इसी तरह ग्रामीण क्षेत्रों में  शराब अधिक दामों में बिक रहा है.

ad

ad

ad
loading...