news-details

कंट्रोल रूम स्थापित है, घर बैठे आप भी सहयोग करें

विदेश व अन्य प्रांतों से आए लोगों के सेहत की निगरानी रख रहा है कोरोना कंट्रोल रूम

6267770531 है... कोरोना कंट्रोल रूम का टेलीफोन नंबर, इसे कहीं नोट कर लें 

कोरोना कंट्रोल रूम में नियंत्रण के लिए नोडल अधिकारी डॉ आई नागेश्वर राव नियुक्त। आयुष विभाग और आरबीएसके दल के साथ क्वारंटीन केंद्र में जीएनएम नर्सिंग सेंटर व एमपीडब्लू का संयुक्त अमला चौबीसों घंटे तैनात। सूचना मिलते ही तुरंत ले रहे एक्शन

महासमुंद 30 मार्च 2020/ कोरोना वायरस से बचाव, रोकथाम और नियंत्रण से संबंधित सूचनाओं के संकलन एवं समन्वयन के साथ-साथ संदिग्ध मरीजों के मार्गदर्शन व सहयोग के लिए जिले में कोरोना कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। इसके संचालन के लिए नोडल अफसर व स्वास्थ्यकर्मियों की तैनाती की गई है।

जिलाध्यक्ष श्री सुनील कुमार जैन की ओर से प्राप्त निर्देशानुसर शहर के जीएनएम नर्सिंग सेंटर में क्वारंटीन केंद्र में स्थापित कंट्रोल रूम का नंबर 6267770531 है। प्रभारी का कार्य संपादित करने के लिए जिला स्वास्थ्य सेवाओं से डॉ आई नागेश्वर राव को कोराना कंट्रोल रूम का जिला नोडल अधिकारी बनाया गया है। साथ ही मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसपी वारे द्वारा कंट्रोल रूम में मिलने वाली सूचनाओं को गंभीरता से लेते हुए उच्चाधिकारियों को फौरन जानकारी देने के लिए सभी को हिदायत दी गई है।

कंट्रोल रूम की कमान सम्हालते ही डॉ राव ने बताया कि कोरोना वायरस के मद्देनजर अन्य देशों व विभिन्न प्रदेशों से आए लोगों की सेहत की निगरानी कर परामर्श प्रदान किया जा रहा है। प्रथम पाली सुबह 08 बजे से अपराह्न 02 बजे तक के लिए ड्यूटी आयुष चिकित्सा अधिकारी डॉ परमेश्वरी धीवर के नेतृत्व में आरबीएसके दल से श्रीमती लता साहू व जीएनएम ट्यूटर श्रीमति साधना रामटेके एवं सुश्री कुन्ती लाउत्रे का दल तैनात हैं। द्वितीय पाली में अपराह्न 02 बजे से रात्रि 08 बजे तक के लिए आयुष चिकित्सा अधिकारी डॉ देवेंद्र साहू व उनके सहयोगियों में सुश्री सुनीता चंद्राकर, श्रीमति प्रीति बाला, सुश्री चंद्रकला साहू व श्री आेंकार गुप्ता का संयुक्त दल कार्यभार सम्हाले हुए है।

वहीं, तीसरी पाली में जीएनएम ट्यूटर श्रीमति सुषमा दास, सुश्री लीजा मैथ्यू श्री दिनेश दीवान सहित विभागीय कर्मचारियों से सेवाएं ली जा रहीं है। डॉ राव के मुताबिक सभी कर्मचारी प्रतिदिन विदेश, अन्य प्रदेश या महानगरों से आए लोगों की सूची की उपलब्धता पर संबंधित से उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए निर्देशित किया गया है। साथ ही वे कोरोना कंट्रोल रूम के नंबर पर चौबीसों घंटे संदिग्ध मरीजों के लिए एडवाइजरी भी प्रदाय करने का कार्य बखूबी कर रहे हैं। जिसमें उन्हें उनकी स्थिति एवं परिस्थति के अनुरूप बेहतर से बेहतर सुविधाएं मुहैंया कराने का प्रयास जारी है। जिला कार्यक्रम प्रबंधक श्री संदीप ताम्रकार ने अपील की है कि एक बात और ध्यान में रखें कि अगर आपको कहीं संदिग्ध मरीज दिखे या आपको सूचना मिले तो बिना देर किए घर बैठे-बैठे ही तत्काल हमारे कंट्रोल रूम में फोन घुमाएं। आपकी जरा सी सतर्कता आपके क्षेत्र में फैल सकने वाले संक्रमण को रोकने में अहम भूमिका निभा सकती है।

93 में 23 का होम आइसोलेशन पूरा

आईडीएसपी के डाटा मैनेजर श्री विजय भान सिंह से प्राप्त जानाकरी के अनुसार भारत के अन्य प्रांतों से आए 96 संदिग्ध मारीजों को होम आइसेलोशन में रखा गया। जिनमें से 23 होम आइसोलेशन के 14 दिन पूरे भी कर चुके हैं। वही, शेष बचे 57 संदिग्ध मरीजों के लिए चिरायु दल के सदस्यों द्वारा प्रतिदिन उनके घर जाकर निगरानी की जा रही है।

ad

ad

ad
loading...