news-details

प्रभारी मंत्री ने की जिला स्तरीय विभागीय गतिविधियों की समीक्षा फ्लैगशिप योजनाओं पर पूरी संवेदनशीलता के साथ काम करें: मंत्री कवासी लखमा

आबकारी एवं वाणिज्यकर और जिले के प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा ने जिला पंचायत के सभाकक्ष में जिला अधिकारियों की बैठक लेकर जिला स्तरीय विभागीय गतिविधियों की समीक्षा की। उन्होंने उपस्थित सभी को नववर्ष की शुभकामना दी। मंत्री श्री लखमा ने कहा कि राज्य सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं पर पूरी संवेदनशीलता के साथ काम करें। छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी में गुणवत्तापूर्ण कार्य करने की बात कही। वहीं उन्होंने कहा मुख्यमंत्री सुपोषण योजना, गोधन न्याय योजना आदि पर सभी विभागीय अधिकारी आपस में समन्वय के साथ काम करें। उन्होंने कहा कि अपूर्ण निर्माण कार्यों को पहले प्राथमिकता के साथ निपटाएं। मंत्री ने कहा कि सभी निर्माण कार्याें में गुुणवत्ता से कोई समझौता न किया जाए। श्री कवासी लखमा ने कहा कि जिले में धान खरीदी के महत्वपूर्ण कार्य है।

दिए गए लक्ष्य के साथ पूरा करें। उन्होंने कहा कि धान खरीदी के लिए कम समय बचा है। किसानो को धान बेचने में कोई परेशानी या दिक्कत न हो इस बात का खास ध्यान रखा जाए।

कलेक्टर डोमन सिंह ने राजस्व की गतिविधियों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि नगरीय क्षेत्र में प्रदत्त नजूल की भूमि पर आवास बनाकर रह रहें ऐसे ईच्छुक पट्टाधारियों से जिन्होंने पट्टे पर प्राप्त भूमि के संबंध मंे भू-स्वामी अधिकार हेतु आवेदन दिया है, उन्हें गाईड लाईन के आधार पर भू-स्वामी हक (मालिकाना हक) की कार्यवाही की जा रही है। कलेक्टर ने बताया कि उक्त मालिकाना हक मिलने से हितग्राही को पट्टे के नवीनीकरण की आवश्यकता नहीं होगी। मालिकाना हक प्राप्त या जमीन डायवर्टेड भी होगी, जिसका उपयोग संबंधित व्यक्ति भू-स्वामी हक से कर सकेगा। पुलिस अधीक्षक श्री प्रफुल्ल कुमार ठाकुर और वनमंडलाधिकरी श्री पंकज राजपूत ने भी अपने-अपने विभाग की कि गई गतिविधियों की  जानकारी दी।


प्रभारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि संबंधित विभागों द्वारा हितग्राहियों को वितरित की जाने वाली सामग्रियों के बारें में विधायक, जनप्रतिनिधियों को अवश्य पहले से अवगत कराया करें ताकि वह या उनके प्रतिनिधि मौके स्थल पर जाकर हितग्राहियों को विभिन्न सरकारी योजनाओं के बारे में बता सकें। मंत्री ने सभी विभागों के जिला अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए कि वे विधायकों के पत्रों पर कार्रवाई कर उन्हें जरूर अवगत कराए।

बैठक में विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारियों, पंचायत एवं ग्रामीण विकास कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्य, लोक निर्माण, लोक स्वास्थ्य यंत्रिकी, स्कूल शिक्षा, जलसंसाधन, महिला एवं बाल विकास, कौशल विकास, उद्योग, आबकारी आदि ने गतिविधियों की कम्प्यूटर आधारित प्रेजेंटेशन प्रस्तुत किया गया और विस्तार से विभागीय गतिविधियों की जानकारी दी। समीक्षा बैठक में संसदीय सचिव एवं विधायक  विनोद चन्द्राकर, अध्यक्ष छ.ग. राज्य वन विकास निगम एवं विधायक बसना  देवेन्द्र बहादुर सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष  ऊषा पटेल, जिला पंचायत उपाध्यक्ष  लक्ष्मण पटेल सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।






ad

ad

loading...