news-details

महासमुन्द : विश्व श्रवण दिवस: जिला चिकित्सालय में लगेगा विशेष शिविर

बहरेपन और श्रवण हानि रोकने के लिए दुनियाभर में कान और सुनने की देखभाल को बढ़ावा देने के लिए हर वर्ष 03 मार्च विश्व श्रवण दिवस (वल्र्ड हियरिंग डे) मनाया जाता है। इसके लिए प्रत्येक वर्ष डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) विश्व श्रवण दिवस की थीम तय करता है। इस वर्ष की थीम ‘‘हियरिंग केयर फाॅर आॅल’’ (जाॅच, पुनर्वास, संवाद) है। इस अवसर पर जिल में राष्ट्रीय बधिरता बचाव व नियंत्रण कार्यक्रम के तहत् कल बुधवार 3 मार्च को जिला चिकित्सालय में एक विशेष शिविर का आयोजन किया जा रहा है।कलेक्टर  डोमन सिंह ने भी कहा कि इस दिन युवाओं को भी चाहिए कि वे आधुनिक जीवनशैली का हिस्सा बन चुकें ईयर फोन और डीजे जैस उपकरणों से दूरी बनाए रखें। जो कानों के लिए नुकसानदेय हैं। उन्होंने डाॅक्टरों से भी कहा कि लोगों को श्रवण संबंधी समस्या के कारण, उनकी रोकथाम और निदान के बारें में बताएं। उन्होंने कहा कि कान बहना, ऊॅची आवाज में संगीत सुनना, बुढ़ापा आदि श्रवण संबंधी समस्याओं के कारण हैं।

उन्होंने कहा कि इस बारें में जागरूकता लाकर और श्रवण संबंधी समस्या होने पर इसका जल्द उपचार होने से इस समस्या से बचा जा सकता है।  मुख्य चिकित्सा एंव स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एन.के. मंडपे जानकारी देते हुए बताया कि इस कैम्प में संबंधित कान रोगियों का मशीन से निःशुल्क जांच एवं उपचार किया जाएगा। इसके अलावा रोगियों को निःशुल्क दवाईया भी उपलब्ध कराई जायेंगी। समाज कल्याण विभाग द्वारा आवश्यकता अनुरूप श्रवण यंत्र भी प्रदान किया जाएगा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रीय बधिरता बचाव व नियंत्रण कार्यक्रम के जिला नोडल अधिकारी डाॅ के. गजभिये एवं नाक, कान व गला रोग विशेषज्ञ डाॅ ओमकेश्वरी साहू सेवाएं देंगे।



ad

loading...