news-details

मिडिल स्कूल के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिली , टीका 100 फीसदी प्रभावी

न्यूयॉर्क। लंबे समय का इंतजार अब खत्म होता दिख रहा है। इसमें अमेरिका को अहम सफलता हासिल हुई है। मिडिल स्कूल के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिल गई है। अमेरिका के फूड और ड्रग एडमिनिस्ट्रेटर ने 12 से 15 साल के किशोरों को लगाए जाने वाले टीके को मंजूरी दे दी है।आपको बता दें कि अमेरिका के खाद्य और दवा प्रशासन (एफडीए) ने 12 से 15 साल की उम्र के बच्चों के लिए भी फाइजर की कोरोना वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है। एफडीए के कार्यकारी आयुक्त डॉक्टर जेनेट वुडकॉक ने कहा कि कोविड वैक्सीन के इस्तेमाल को लेकर लिया गया यह निर्णय हमें सामान्य स्थिति में लौटने के करीब लाएगा। माता-पिता और अभिभावक इस बात के लिए आश्वस्त हो सकते हैं कि एजेंसी ने सभी उपलब्ध डेटा की गहन समीक्षा की है।एफडीए ने 16 साल या उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए फाइजर वैक्सीन लगाने की पहले ही मंजूरी दे दी थी। हालांकि, फाइजर कंपनी ने पाया कि उसका टीका छोटे बच्चों पर भी कारगर है, जिसके एक महीने बाद यह घोषणा हुई। अब फाइजर की दो खुराक वाले वैक्सीन को 12 से 15 साल के बच्चों के लिए आपात स्थिति में इस्तेमाल करने को मंजूरी दे दी गई है।इस वैक्सीन को विकसित करने वाली कंपनियों ने मार्च महीने में दावा किया था कि 2000 से अधिक किशोरों पर इसका परीक्षण किया गया था। परीक्षण में इसे 100 फीसदी प्रभावी पाया गया।आने वाले दिनों में तीसरा लहर बच्चों के लिए ज्यादा घातक होने की जानकारी मिल रही है। ऐसे में अमेरिका द्वारा विकसित फाइजर कोरोना महामारी से निपटने में कारगर साबित हो सकता है।