news-details

बसना : डिप्टी रेंजर के चपरासी पर ग्रामीणों का आरोप – पूर्वजों के कब्जे की हुई भूमि पर फेसिंग तार घेराव करने का डर दिखाकर माँगा जा रहा रकम.

हेमंत वैष्णव. बसना ब्लाक अंतर्गत ग्राम कुसमूर, बड़ेसाजापाली के ग्रामीणों और बसना ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष धर्मेन्द्र नायक ने डिप्टी रेंजर नेमसी तिग्गा के ख़िलाफ वन मण्डल अधिकारी महासमुंद से लिखित में शिकायत किया है.

जानकारी के अनुसार डिप्टी रेंजर नेमसी तिग्गा के चपरासी का एक विडियो वायरल हुआ, जिसमे चपरासी रविलाल साहू द्वारा डिप्टी रेंजर नेमसी तिग्गा के नाम पर अतिक्रमण वाले जगह को छोड़ने के बदले में 5 से 10 हजार दिया जा रहा है.

ग्राम पंचयात कुसमूर के ग्रामीण समारू यादव, अजय यादव, का कहना है कि उनके पूर्वज कई वर्षों से इस गांव में है. जिनका कुछ मकान और ब्यारा बाड़ी के लिए जगह है, ये घर और बाड़ी का कब्जा उनके पूर्वजों द्वारा किया गया है, लेकिन जब से डिप्टी रेंजर नेमसी तिग्गा बडेसाजपाली में पदस्थ है तब से गरीब घर के लोगो के बाड़ी और कब्जे वाले जमीन को वन विभाग के फेसिंग तार के अंदर घेराव करने तथा कब्जे वाले भूमि को वन विभाग के फेसिंग तार के घेराव के अंदर लाने का डर दिखा कर रकम का मांगा जा रहा था.

जिसका ग्राम कुसमूर के ग्रामीण समारू यादव और अजय यादव ने वीडियो भी बनाया है, ग्रामीणों के अनुसार वन विभाग का चपरासी रविलाल साहू डिप्टी रेंजर नेमसी तिग्गा के नाम पर 5 से 10 हजार मांगता था, तथा नही देने पर बाड़ी को वन विभाग के फेसिंग तार के घेराव के अंदर लाने का डर दिख़ाता था.

कुसमूर के यादव ने 5 हजार रु देते वीडियो बनाया, रविलाल साहू चपरासी का वीडियो में 5 हजार नेमसी तिग्गा के नाम से लेते दिखाई दिए. इसी वीडियो के आधार पर धर्मेंद्र नायक ब्लॉक कांग्रेस कमेटी बसना के उपाध्यक्ष द्वारा शिकायत किया गया है.

इसके आलावा ग्रामीणों का आरोप है कि बड़ेसाजापाली के डिप्टी रेंजर नेमसि तिग्गा द्वारा वन विभाग के जमीनों को कब्जा करवाने में अतिक्रमणकर्ताओ के साथ-साठ गांठ है, वन विभाग के जमीनों पर अवैध रूप से कब्जा कर खेती किसानी किया जा रहा है, साथ ही साथ वन विभाग के पेड़ पौधों को काटकर उस जगह मिट्टी ईट बनाने वाले ठेकेदारो के साथ सांठ-गांठ कर ईट बनवाया जा रहा है. शिकायतकर्ताओ में शिव पटेल, नवधा, अवध लाल, मोहरसिंग, पीलू दाऊ आदि शामिल हैं.


शिकायत के अनुसार भँवचरचुवा बिट के शासकिय बाँध के ऊपर परिघुटकुरी कक्ष क्रमांक 332 में में 2010-11 में सौगन का पेड़ लगाया गया था, जहाँ शासन के तरफ से लगाए गए और अन्य बड़े पेड़ पौधों भी मौजूद थे. अब इन पेड़ों को कटवा दिया गया है साथ ही साथ वन विभाग का कांटा तार को भी हटवा दिया गया है. आरोप है कि नजदीक में वन रक्षक भी रहते है और कोई कार्यवाही नही करते है, ग्रामीणों ने वन मण्डल अधिकारी महासमुंद को शिकायत कर जांच और कार्यवाही की मांग की है.

ग्रामीणों ने बताया कि करनापाली में वन विभाग की जमीन पर नंद कुमार साहू के जेसीबी मसीन से कार्तिक राम नाम का किसान जेसीबी मसीन और ट्रैक्टर लेकर लगातार 5 दिनों तक वन विभाग के पेड़ों के अंधा धुंध कटाई किया, वनों को काटने पर जब जेसीबी ड्रायवर से पूछा गया तो पर बताया कि किसान कार्तिक राम का डिप्टी रेंजर नेमसी तिग्गा से बात हो गई है कोई परेशानी नही है.
इसके बाद डिप्टी रेंजर नेसनी तिग्गा को इस बात की सूचना दी गई तो डिप्टी रेंजर अतिक्रमण स्थल पर पहुंची पर उसके बाद भी वन विभाग के पेड़ पौधों को काटने वाले जेसीबी मशीन और ट्रैक्टर पर कोई कार्यवाई नही हुई ऐसे ही छोड़ दिया गया.

मामले में महासमुंद DFO ने कहा कि मामले की जांच हो गई है, चपरासी से पुछताछ किया गया है. जिसने बताया कि ग्रामीण जबरदस्ती रकम दिए है, वही वन विभाग के जमीन पर जेसीबी लेकर अतिक्रमण के मामले में कहा कि जांच प्रतिवेदन देख कर ही बता पाऊँगा.



क्लासिफाइड विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 9131581090

क्लासिफाइड