news-details

साहब के मुँह से यूँ नहीं निकली थी गालियाँ, ये है इसकी वजह..! 2.5 लाख का एक ई रिक्शा…! माजरा समझ मे आ जाएगा, पढ़िए पूरी ख़बर..!

जशपुर विधानसभा के अंतर्गत डीएमएफ मद से इस बार ई रिक्शा की खरीदी हुई है, ढाई लाख की कीमत पर रिक्शा की कीमत अदा करते हुए 10 नग के पूरे 25 लाख..!

जशपुर जिले के आरईएस विभाग के कार्यपालन अभियंता से जब कल दोपहर बात की गई नशे में धुत्त यह अधिकारी फोन पर ही बदतमीजी में उतर गया, हाँ इसलिए क्योंकि जवाब शायद साहब को आता नहीं, तो क्या करें..! सीधे कह देते हैं “कलेक्टर से पूछो” , वैसे भी जिले में कभी 13 वां 14 वां वित्त का तो डीएमएफ मद में सप्लाई की अपनी कहानी रोज गढ़ी जा रही है !

2.5 लाख का एक रिक्शा..!

इस बार खरीदी में कचरा वाले ई रिक्शा की खरीदी हुई है, जिसमे एक नग की कीमत 2.5 लाख रुपये की एक रिक्शा की कीमत अदा की जा रही है, और सप्लायर भी रायपुर का है। बात यह भी है कि इस ई रिक्शा खरीदी के लिए कौन सी खरीद की प्रक्रिया की गई, टेंडर कहां निकला और कैसे किसको टेंडर मिला, सारा गोलमाल का जवाब नहीं मिलता, पर हाँ जब जवाबदार से पूछो तो एक जवाब मिलता जरूर है “कलेक्टर से पूछो” और गालियां भी।

पहले मुख्यकार्यपालन अधिकारी को करना था खरीदी,अचानक मिल गया कार्यपालन अभियंता को आदेश:-

अब ये भी नही पता कि जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को पहले यह खरीदी करने का अधिकार दिया गया था फिर अचानक से आदेश हुआ कि अब यह खरीदी कार्यपालन अभियंता आरईएस को एजेंसी बनाते हुए कहा गया, कि अब ये साहब खरीदी करेंगे। बात जो रही सो रही पर जरा इस ई रिक्शा की इस तस्वीर को भी तो देख लीजिए जो जशपुर विधानसभा के जशपुर, मनोरा और बग़ीचा के 10 पंचायतों को देने के लिए बिल सहित पहुंच गई है, अब ये बात अलग है कि तस्वीरों को देख चौंकिएगा भर मत, बस समझ लीजिए इसकी कीमत पूरे ढाई लाख है।

कौन कौन से हैं 10 पँचायत:-

जिले के जशपुर, मनोरा और बगीचा के 10 पँचायत जिन्हें यह ई रिक्शा एक-एक नग दिया जा रहा है वे पंचायत लोदाम, गम्हरिया, आरा, मनोरा, आस्ता, संन्ना, कामारिमा पन्डरापाठ, घोघर और भितघरा हैं, और इन 10 पंचायतों को ई रिक्शा दिया जा रहा है पूरे 25 लाख रायपुर के सप्लायर को अदा भी किया जाना है।




ad

ad

ad

loading...