news-details

कलेक्ट्रोरेट परिसर में जैविक जवाफूल चावल प्रदर्शनी को मिला जबरदस्त रिस्पांस, किसानों ने महज 6 घंटे में बेच डाले 3 लाख का चावल....

कलेक्ट्रेट परिसर में लैलूंगा क्षेत्र के प्रसिद्ध जैविक जवाफूल चावल की प्रदर्शनी लगी है। इसमें कलेक्ट्रेट के अधिकारी-कर्मचारी के अलावा शहरवासी पहुंचकर खूब खरीदारी कर रहे हैैं। जवाफूल चावल को जबरदस्त रिस्पांस मिल रहा है।

इसके चलते किसानों ने मात्र 6 घंटे में ही 3 लाख रुपए का चावल बेच डाला। कलेक्ट्रेट परिसर में लगे लैलूंगा क्षेत्र के प्रसिद्ध जैविक जवाफूल चावल की प्रदर्शनी में लोगों के उत्साह को देखते हुए यह प्रदर्शनी आज 13 जनवरी को भी सुबह 11 से शाम 4 बजे तक जारी रहेगी।

कलेक्टर सिंह ने स्टॉल में पहुंचकर किसानों से उनके अनुभव जाने। लैलूंगा से आए किसानों ने इस पहल के लिए कलेक्टर का आभार जताते हुए कहा कि आपके सहयोग से हम सीधे ग्राहकों से जुड़ पाए व अपनी उपज का सही दाम हाथों में आया। यह एक शानदार अनुभव है।

कलेक्टर सिंह ने इस अवसर पर कहा कि यह एक शुरूआत है आगे यहां के जवाफूल चावल को इससे बड़े स्तर पर पहुंचाएंगे। यह रायगढ़ जिले की पहचान बनेगा। इसके लिए उन्होंने एक सप्लाई चैन विकसित करने की बात कही। उन्होंने बताया कि किसानों को जल्द ही एक मिनी मिलिंग यूनिट व स्टोरेज के लिये गोदाम भी प्रदान किया जाएगा।


उम्मीद से ज्यादा लोग चावल खरीदने पहुंचे

पहाड़ लूड़ेग से पहुंचे किसान संतोष कुमार ने बताया कि आज उनके एफपीओ ने लगभग 75 हजार रुपए का चावल यहां बेचा है। हमारी उम्मीद से कहीं अधिक लोग जवाफूल चावल खरीदने पहुंचेए यह देखकर बहुत अच्छा लगा। उल्लेखनीय है कि लैलूंगा के 5 एफपीओ केलो लैलूंगा कृषक सुगंधित जैविक धान उत्पादक संगठन, केलो श्री कुबेर कृषक जैविक उत्पाद संगठन राजपुर, केलो कृषक जैविक उत्पादक संगठन केशला, केलो श्री सतीमाता कृषक जैव उत्पाद संगठन कोड़ासिया और केलो पहाड़ लुड़ेग कृषक सुगंधित जैविक धान उत्पादक संगठन के किसान यहां अपने जैविक जवाफूल चावल बेचने पहुंचे थे।

वर्तमान में लैलूंगा के आसपास लगभग 200 हेक्टेयर में जवाफूल की खेती की जा रही है। जिसे बढ़ाकर लगभग 1500 से 2000 हेक्टेयर करने का लक्ष्य रखा गया है। कलेक्टर भीम सिंह की पहल पर इसके लिए डीएमएफ से राशि भी इन एफपीओ को प्रदान की गई है।






ad

ad

loading...