news-details

अन्य राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की सूचना ग्राम पंचायत एवं नगरीय निकायों में अनिवार्य रूप से दे - कलेक्टर डी सिंह

कोरोना महामारी से निपटने के लिए सभी लोगों का सहयोग जरूरी - कलेक्टर  डी सिंह

इस समय पूरे देश के साथ-साथ महासमुंद जिला भी कोरोना संक्रमण प्रभाव के कठिन दौर से गुजर रहा है। राज्य सरकार इस गंभीर परिस्थितियों से निपटने के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं में यथासंभव बढ़ोतरी कर रही है। इसके लिए समाज के सभी वर्ग संसाधन बढ़ाने के लिए यथासंभव सहयोग कर रहे हैं। जिला प्रशासन भी कोविड-19 संक्रमण के रोकथाम के लिए पूरी मुस्तैदी से कार्य कर रहा है। कलेक्टर श्री डोमन सिंह ने कोविड-19 से संक्रमित मरीजों का गंभीरता से इलाज करने और उन्हें स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के निर्देश दिए हैं।प्राप्त जानकारी के अनुसार महासमुंद जिले के 551 ग्राम पंचायतों में 823 -823 क्वॉरेंटाइन सेंटर महिला एवं पुरुषों के लिए बनाए गए हैं। इसी तरह जिले के सभी विकासखंड मुख्यालय में कुल 26 पैड क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। जिनमें एयर कंडीशनर कमरें 207 एवं बगैर एयर कंडीशनर के 127 कमरें हैं। इसी तरह जिले के नगरीय निकाय क्षेत्रों में महिलाओं एवं पुरुषों के लिए अलग-अलग क्वॉरेंटाइन सेंटर के लिए भवन चिन्हांकित किए गए हैं। जिसमें पुरुषों के लिए 18 एवं महिलाओं के लिए 17 भवन है। जिले में कोविड-19 के 05 से अधिक धनात्मक प्रकरण के कलस्टर मिलने पर 16 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। इनमें विकासखंड बागबाहरा में 05, पिथौरा में 07 एवं बसना में 04 शामिल है। कंटेनमेंट जोन में निवासरत सभी लोगों को मूलभूत सामग्रीया, स्वास्थ्य एवं अन्य सुविधाएं लगातार उपलब्ध कराई जा रही है। जिले के दो शासकीय एवं 09 निजी चिकित्सालयों में कोविड-19 के गंभीर मरीजों का उपचार किया जा रहा है। इसी तरह जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन द्वारा कोविड-19 के कम गंभीर मरीजों का भी उपचार किया जा रहा है। ताकि उन्हें ऑक्सीजन तत्काल उपलब्ध मिल सके और उनके जान बचाया जा सके। जिले में अब तक 10,913 कोविड-19 के मरीज स्वस्थ होकर अपने-अपने घरों को सकुशल लौट चुके हैं। आज शुक्रवार को कोविड-19 के उपचाररत 108 मरीजों को स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज किया गया है।जिले के 6 निजी चिकित्सालयों को आईसीयू या वेंटीलेटर में उपचाररत गंभीर मरीजों के लिए रेमेडेसिवियर इंजेक्शन आपूर्ति कराया गया है। इनमें आरएलसी हॉस्पिटल को 12, सोहम हॉस्पिटल, आदित्य हॉस्पिटल, जय मां पतई माता हॉस्पिटल को 10-10 तथा भारती हॉस्पिटल को 08 एवं जैन नर्सिंग होम को 06 रेमेडेसिवियर इंजेक्शन उपलब्ध कराया गया है।

कलेक्टर डोमन सिंह ने जिले के सभी सीईओ एवं सीएमओ को निर्देशित किया है कि वे ग्राम पंचायतों एवं नगरीय निकायों में बाहरी राज्यों से कोई भी व्यक्ति आता है तो उसे संबंधित क्षेत्र के क्वॉरेंटाइन सेंटर में सात दिवस के लिए रखना अनिवार्य है। इसके लिए सीईओ एवं सीएमओ अपने-अपने क्षेत्रों में कोटवार या लाउडस्पीकर के माध्यम से अनिवार्य रूप से मुनादी कराएं तथा इस संबंध में अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करें।कलेक्टर सिंह ने सभी नागरिकों से अपील की है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर ज्यादा घातक है। इसका वायरस ज्यादा संक्रमित करने वाला है। इस बार पहले से और अधिक हमें सतर्कता बरतने की जरूरत है। राज्य शासन एवं जिला प्रशासन पूरे संसाधन के साथ इस महामारी से निपटने की कोशिश में लगातार जुटा हुआ है। जिले के लोग स्वयं अनुशासित रहकर एवं अन्य लोगों को संक्रमण से बचाव के उपायों को गंभीरता से पालन कराने को कहा। उन्होंने नागरिकों से कहा कि यदि कोई व्यक्ति अन्य राज्यों से आपके शहर या गांव में आते हैं तो इसकी सूचना तत्काल ग्राम पंचायत, नगरीय निकाय में सूचना अनिवार्य रूप से दें।



ad

loading...