news-details

महासमुंद : कलेक्टर ने जिले के पंजीकृत किसानों से धान उपार्जन शत-प्रतिशत कराने के निर्देश दिए

नोडल अधिकारी सभी धान उपार्जन केन्द्रों में जाकर भौतिक सत्यापन करें - कलेक्टर क्षीरसागर

महासमुंद : कलेक्टर निलेशकुमार क्षीरसागर ने साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक लेकर लंबित प्रकरणों का शीघ्रता से निराकरण करने के निर्देश सभी अधिकारियों को दिए। उन्होंने राजस्व अधिकारियों को पुराने विभिन्न मामलों का निराकरण प्राथमिकता के आधार पर निपटारा करने के लिए निर्देशित किया।

कलेक्टर ने समय सीमा की बैठक में सर्वप्रथम खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के अधिकारियां को जिले के वर्तमान में लगभग एक लाख 47 हजार किसानों से राज्य में सर्वाधिक 8.09 लाख मेट्रिक टन धान का उपार्जन करने एवं राज्य स्तर पर पुरस्कार के लिए नामांकित होने पर बधाई दी। साथ ही धान खरीदी केन्द्रों के लिए बनाए गए नोडल अधिकारियों की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि किसानों से समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन के लिए मात्र चार कार्य दिवस शेष है। उन्होंने जिले के शेष पंजीकृत किसानों से धान उपार्जन शत-प्रतिशत कराने के निर्देश दिए है।


कलेक्टर ने कहा कि धान खरीदी के लिए बनाए गए नोडल अधिकारी सभी धान उपार्जन केन्द्रों में जाकर भौतिक सत्यापन, कम्प्यूटर से मिलान कर प्रमाण पत्र दें। अंतिम दिवस में धान खरीदी कार्यां को और अधिक जिम्मेदारी के साथ संबंधित अधिकारी करें।

कलेक्टर ने 26 जनवरी को जिले में गणतंत्र दिवस समारोह के गरिमामय आयोजन के लिए सभी विभागों को सौंपे गए दायित्वों का निष्ठापूर्वक निर्वहन करने तथा झांकी प्रदर्शन का व्यवस्थित आयोजन कराये जाने के निर्देश दिए। उन्होंने जिले में प्रगतिरत सभी निर्माण कार्यों की जानकारी लेते हुए शासकीय धनराशि का पूरा सदुपयोग करते हुए आमजन को ज्यादा से ज्यादा लाभान्वित कराए जाने तथा जिले के निर्माण कार्यों के गुणवत्ता के साथ कराए जाने के निर्देश दिए।

बैठक में राजस्व अधिकारियों को नियमित रूप से राजस्व कोर्ट में बैठने तथा राजस्व प्रकरणों का तेजी से निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने आमजन को अनावश्यक रूप से राजस्व कार्यो के लिए भटकना न पड़े इस बात का विशेष ध्यान रखने कहा। कलेक्टर ने जल जीवन मिशन योजना के तहत हर घर नल जल कनेक्शन तथा शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए कार्यों में तेजी लाने, कार्य की गुणवत्ता तथा भविष्य में उपयोगिता का विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए।

समय सीमा की बैठक में उन्होंने मुख्यमंत्री के भेंट मुलाकात कार्यक्रम में प्राप्त आवेदनों की समीक्षा, पीजी पोर्टल, पी.जी.एन. जन शिकायत, सीएम चौपाल में लंबित आवेदनों का निराकरण करने के निर्देश दिए। डीएमएफ की कार्यों की प्रगति, सीजीएमएससी लिमिटेड अंतर्गत निर्माण कार्यां की प्रगति की जानकारी, 7500 वर्गफीट भूमि का आबंटन, नियमितीकरण, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, हाट-बाजार क्लीनिक योजना, मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना, नरवा के कार्य, सार्वजनिक वितरण प्रणाली के कार्य, राजीव गांधी भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना, मनरेगा, लोक सेवा गारंटी, कृष्ण कुंज, राजीव युवा मितान क्लब, मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना, सी-मार्ट, सहित अन्य महत्वपूर्ण विषयों की विस्तार से समीक्षा किया गया। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस. आलोक, सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।



क्लासिफाइड विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 9131581090

क्लासिफाइड