news-details

समय देकर नहीं आए सांसद तो किसानों ने दफ्तर घेरा, चक्काजाम करने की कोशिश

छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ ने शुक्रवार को सांसद कार्यालय का घेराव किया। यहां किसान विराेधी कानून सहित सांसद के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। मिलने का समय देने के बावजूद सांसद के नहीं पहुंचने से नाराज किसान धरने पर बैठ गए। किसान करीब दो घंटे तक इंतजार करते रहे। इसके बाद किसानों ने एनएच 353 घेरने की कोशिश की पर पुलिस ने हटा दिया। महासंघ के पदाधिकारियों ने बताया कृषि बिल के विरोध में किसान शुक्रवार को सांसद चुन्नीलाल साहू से चर्चा करने कार्यालय पहुंचे थे। सात दिन पहले लिखित सूचना देते मिलने का समय मांगा था। सांसद ने फोन पर दोपहर 2 बजे मिलने का समय भी दिया था, लेकिन वे कार्यालय में नहीं थे। महासंघ के संयोजक मंडल सदस्य तेजराम विद्रोही ने बताया कि प्रतिनिधि मंडल ने जब उनसे मोबाइल पर संपर्क किया तो सांसद ने कह दिया कि कांग्रेस भवन के सामने पंडाल लगा हुआ है, वहां जाकर धरने में बैठ जाओ।

मैंने ऐसा नहीं कहा: सांसद


इधर सांसद चुन्नीलाल साहू ने कहा मैंने ऐसा नहीं कहा है। मैंने कहा कि आप मिलने और चर्चा करने नहीं आए हैं। आप आंदोलन और घेराव करने आए हैं तो आंदोलन ही करें। उन्होंने बताया कि सात दिन पहले जुगनू चंद्राकर ने मुझे फोन कर मिलने की बात कही थी। इस पर मैंने पूछा था कि आप कितने लोग आओगे, लेकिन उन्होंने बताया नहीं। वर्तमान में कोरोना चल रहा है, पता नहीं कितने लोग मिलने आते।

किसानों ने की नारेबाजी

किसानों ने सांसद कार्यालय में जमकर नारेबाजी की। सांसद कार्यालय प्रभारी मोहन साहू ने बताया कि सांसद बाहर हैं, इसलिए नहीं आ पाए हैं। किसान ज्ञापन सौंप दें जिसे वे सांसद तक पहुंचा देंगे। किसानों ने कहा कि जब तक सांसद खुद आकर बातें नहीं सुनेंगे, वे नहीं जाएंगे। महासंघ पदाधिकारी सीके सागर ने बताया कि कल ही सांसद से बात हुई थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि दोपहर 2 बजे कार्यालय में मिलेंगे।

ad

loading...