news-details

क्या देश भर में लॉकडाउन लगाने की चल रही तैयारी ? क्या बोले अधिकारी ? पढ़िए पूरी खबर

 देश में कोरोना का कहर जारी है. बीते 10 दिनों से रोजाना कोरोना के 3 लाख से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं. कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए AIIMS प्रमुख डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने बीते साल मार्च महीने जैसे लॉकडाउन  की सिफारिश की है. उधर, सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र और राज्य सरकारों को कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों पर लगाम लगाने के लिए संपूर्ण लॉकडाउन  पर विचार करने को कहा है. उधर, हिन्दुस्तान न्यूज पोर्टल ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया कि फिलहाल संपूर्ण लॉकडाउ का कोई प्लान नहीं है. आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि देश भर में लॉकडाउन का केंद्र सरकार कोई प्लान नहीं है, लेकिन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कोरोना संक्रमण को थामने के लिए पाबंदियां बढ़ाने को कहा गया है.

 रविवार रात सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि हम केंद्र और राज्य सरकारों से सामूहिक समारोहों और सुपर स्प्रेडर कार्यक्रमों पर रोक लगाने पर विचार करने का आग्रह करेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने सरकारों से कहा है कि वे लोक कल्याण के हित में दूसरी लहर के वायरस पर अंकुश लगाने के लिए लॉकडाउन लगाने पर विचार कर सकते हैं.

इससे पहले AIIMS प्रमुख डॉ. रणदीप गुलेरिया  ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर को हराने के लिए सख्त लॉकडाउन  की जरूरत है जैसा पिछले साल मार्च में लगाया गया था. NDTV वेबसाइट की खबर के अनुसार, डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, समेत देश के कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू और वीकेंड लॉकडाउन  लगाया गया है, लेकिन यह ज्यादा असरदार साबित नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि हमें इस संख्या को नीचे लाने के लिए आक्रामक तरीके से काम करना होगा.

बता दें कि कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी को देखते हुए केंद्र सरकार देश के उन 150 जिलों में लॉकडाउन लगा सकती है जहां कोरोना का संक्रमण दर 15 फीसद से ज्यादा है. हालांकि .ये कहा गया है कि इसका फैसला उस जिले के संबंधित राज्य से विचार-विमर्श के बाद ही लिया जाएगा. एक उच्चस्तरीय बैठक में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से देश के उन जिलों में लॉकडाउन की सिफारिश की गई थी, जहां संक्रमण ज्यादा है. स्वास्थ्य मंत्रालय का मानना है कि अभी संक्रमितों का आंकड़ा और पॉजिटिविटी रेट को नियंत्रित करना सबसे ज्यादा जरूरी है जिसके लिए लॉकडाउन लगा देना चाहिए.

इस बीच सोमवार को कोरोना के नए मामले में थोड़ी कमी देखी गई. हालांकि संक्रमितों का आंकड़ा 3 लाख से ज्यादा ही रहा. बीते 24 घंटे में भारत में कोरोना के 3.68 लाख से ज्यादा नए केस सामने आए और इस दौरान 3400 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में कोरोना के 3,68,147 नए मामले सामने औए और इस दौरान 3,417 लोगों की मौत हो गई. इसके साथ ही देश में संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1,99,25,604 पहुंच गया है और अब तक 2,18,959 लोग इस जानलेवा वायरस के शिकार हो चुके हैं. भारत में कोरोना के अभी 34,13,642 एक्टिव मरीज हैं और16,29,3003 मरीज इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं.



ad

loading...