news-details

लोरमी के मुकेश रजक बने सहायक प्राध्यापक, कैंटीन में काम करते हुए सफलता हासिल की.....

लोरमी से लगे ग्राम नवागांव जैत के होनहार नौजवान मुकेश कुमार रजक 26वर्ष ने बहुत बड़ी उपलब्धि हासिल करते हुए सहायक प्राध्यापक के लिए चयनित हुए है।अपनी प्रारंभिक पढ़ाई गांव के सरकारी प्राथमिक स्कूल ,मिडिल पैजनिया,हाई व हायर सेकंडरी सरकारी स्कूल कोतरी तथा कॉलेज कोतरी महाविद्यालय के पहले बैच के रूप में निकले होनहार नौजवान के इस शानदार उपलब्धि पर क्षेत्रवासियों में हर्ष का माहौल है।

आपको बता दें कि कॉलेज के दिनों में व्यापार विहार स्थित अपने चाचा की कैंटीन में काम करते थे,कॉलेज के प्रोफेसरों ने भी बहुत सहयोग किया व उनका उत्साह बढ़ाया,योजना बनाते थे जानकारी देते रहे उन सभी की आशा और आकांक्षाओं को परिणाम में बदलने वाले इस नौजवान की सफलता ने हजारों नौजवानों में उम्मीद की किरण जगाई है।सरकारी स्कूल और कॉलेज में पढ़ने वाले गरीब छात्र भी अपने ज्ञान और परिश्रम के दम पर बड़ी से बड़ी सफलता हासिल कर सकते हैं ये उनके जज्बे ने दिखा दिया है।स्कूल दिनों में रोजी मजदूरी भी करते थे।मुकेश रजक बताते हैं कि 12वीं के बाद पढ़ाई बन्द करने की नौबत आ गयी थी क्योंकि आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ रहा था संयोग से उसी वर्ष गांव के पास में कोतरी महाविद्यालय खुल जाने से हम जैसे गरीब और पिछड़े लोगों को पढ़ने का जरिया मिल गया।कॉलेज के पहले बैच के विद्यार्थी रहे उस समय कॉलेज के प्रोफेसर भी उनका हौसला बढ़ाते थे।

उनके पड़ोसी रहे स्व.अश्वनी ढीमर उनको बहुत हिम्मत बंधाते रहे,आरएसएस का प्राथमिक वर्ग प्रशिक्षण भी पूरा किया।घर वालों का सहयोग उनके पूरे सफलता में सबसे अधिक रहा।उनकी बहनों ने उनके सपनों को जिंदा रखने में बड़ी भूमिका निभाई कि तू बड़ा काम करेगा करके।उनके चाचा काम कम पारिश्रमिक ज्यादा देते थे आत्मनिर्भर रहने से स्वाभिमान से पढ़ सकते हो करके उन्हें पढ़ने में मदद किये।दिल्ली में सिविल सर्विसेज की तैयारी की।सरकार की प्रतियोगिता परीक्षा हेतु कोचिंग योजना का लाभ उठाकर उन्होंने परीक्षा पास कर दिल्ली में आईएएस की तैयारी की।उनका 2018 में ही छत्तीसगढ़ पीएससी का प्री और मेंस क्लियर हो गया था लेकिन इंटरव्यू में कुछ कारणों से उस समय सफ़लता नहीं मिल पाई फिर मुकेश सहायक प्रध्यापक के चयन परीक्षा पास करने में सफल रहें।

उन्होंने इस सफ़लता का श्रेय लिए अपने मातापिता,भाई,बहन,दादा-दादी,स्कूल के शिक्षकों, प्रध्यापकों का सबसे ज्यादा आभार माना है जिनके कुशल मार्गदर्शन में वह इतना बड़ा परीक्षा पास कर आज उन्हीं के जैसे कॉलेज में सेवा देने जा रहे है।आगे समाज के उत्साही नौजवानों व समाज के गरीब वर्ग के छात्रों के लिए काम करने की इच्छा जताई है।दादा भुखन,दादी तीजन बाई पिता दुबेन्द्र रजक माता द्रोपती रजक,चाचा कोमल- चित्तरेखा, अमित-यामिनी,भानु-शीला ,बहन अनिता लता,मीनाक्षी,केशव ढीमर,शिक्षक राजकुमार कश्यप मनोज व सन्दीप कश्यप, विवेक मानिकपुरी,मनीष, लव,बलराम, विष्णु,दामिनी,सहित क्षेत्रवासियों ने उन्हें उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दी है।