news-details

महासमुंद : कलेक्टर ने बर्डफ्लू रोग नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु विशेष सावधानी बरतने ज़िले के सभी एसडीएम को लिखा पत्र, सतर्कता बरतने के दिए निर्देश

कलेक्टर डोमन सिंह ने देश के केरल, राजस्थान, मध्यप्रदेश और हिमाचल प्रदेश में पाए गए मृत पक्षियों (बतख़, कौवे एवं प्रवासी पक्षियों) में बर्डफ्लू रोग की पुष्टि हुई है। कलेक्टर ने इसे गंभीरता से लिया। उन्होंने ज़िले के सभी अनुविभागीय अधिकारियों (राजस्व) को ज़िले में बर्डफ्लू रोग नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु विशेष सावधानी बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने इसके लिए ज़िले के सभी एसडीएम को पत्र जारी किया है। उन्होंने पत्र में कहा कि ज़िले के सीमावर्ती प्रदेश से पक्षियों के परिवहन पर कड़ी नज़र रखी जाए।

कलेक्टर ने आज समय सीमा की बैठक में कहा कि ज़िले में कही भी पक्षियों में किसी भी प्रकार के असामान्य बीमारी के लक्षण अथवा पक्षियों की आकस्मिक मृत्यु होने पर तत्काल अवगत करायें या तौर पशुपालन विभाग के ज़िलाधिकारी को तुरंत सूचित करें। उन्होंने पत्र में लेख किया कि संबंधित एसडीएम के क्षेत्र में शासकीय, अशासकीय कुक्कुट पालन प्रक्षेत्रों एवं पोल्ट्री व्यवसायी केंद्रो का सर्विलेंस किया जाए ।संबंधित को जैव सुरक्षा नियमों अवगत कराते हुए उनका पालन कराया जाए। क्षेत्र के पशुपालन, स्वास्थ्य एवं वन विभाग के बीच समन्वय स्थापित करें ।

कलेक्टर डोमन सिंह ने सभी विभागों के ज़िला अधिकारियों को सतर्कता के साथ काम करने की बात कही। उन्होंने कहा कि सरकार के निर्धारित प्रोटोकोल का पालन करते हुए सभी विभाग टीम भावना के साथ बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए काम करेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सहित ज़िले में बर्ड फ्लू रोग संबंधी जानकारी नही मिली है। लेकिन इस रोग को लेकर सावधानियां बरतें। भारत सरकार के पशुपालन एवं डेयरी विभाग के दिशा-निर्देशानुसार प्रदेश में बर्डफ्लू रोग नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु विशेष सावधानी बरतने की करवाई की जाए।

मालूम हो कि एवियन इन्फ्लूएंजा (H5N1) वायरस का एक सबटाइप है जो खास तौर से पक्षियों के जरिये फैलता है। यह बीमारी पक्षियों के बीच बहुत तेजी से फैलती है और अत्यंत घातक हो सकती है। पक्षियों से ये बीमारी इंसानों में भी फैलती है।






ad

ad

loading...