news-details

मेडिकल छात्रों ने की थी एक युवक की गर्लफ्रेंड के साथ साइबर बुलिंग,, बॉयफ्रेंड ने देश के सारे मेडिकल छात्रों से बदला लेने का लिया फैसला

साइबर बुलइंग अपराध युवको में काफी बढ़ता जा रहा है, जहां एक तरफ युवा ही इंटरनेट के सबसे ज्यादा उसेर्स है,,वही इंटरनेट से जुडी अपराध भी आकड़े पार करते जा रहे है,, पिछले साल 26 दिसंबर को गुजरात के जामनगर स्थित एमपी शाह मेडिकल कॉलेज के गर्ल्स हॉस्टल के एक कमरे से छह लैपटॉप चोरी हो गए थे। पुलिस ने इसी मामले की जांच शुरू की और तमिलसेलवन को पकड़ा। 

तमिलनाडु के चेन्नै में पढ़ने के दौरान एक युवक की गर्लफ्रेंड के साथ कुछ मेडिकल छात्रों ने साइबर बुलिंग की थी। इस घटना के बाद युवक के मन में इतनी कड़वाहट भर गई कि उसने देश के विभिन्न मेडिकल संस्थानों में पढ़ने वाले मेडिकल छात्रों से बदला लेने की ठानी। इसके लिए उसने अलग तरीका अपनाया। उसने छात्रों के गैजेट्स लैपटॉप को चुराना शुरू कर दिया।

बुधवार को, जामनगर पुलिस भी चकित हो गई जब उन्होंने 24 वर्षीय लैपटॉप चोर तमिलसेलवन कन्नन को गिरफ्तार कर लिया। कन्नन ने 2015 से देश भर के कई मेडिकल कॉलेज हॉस्टलों से कम से कम 500 लैपटॉप चोरी करने की बात कबूल की। 

केएल गढे, निरीक्षक, बी-डिवीजन पुलिस स्टेशन, जामनगर ने कहा कि 2015 में चेन्नै के कुछ मेडिकल छात्रों ने आरोपी की प्रेमिका का आपत्तिजनक वीडियो रिकॉर्ड किया था और उसे वायरल कर दिया था। इस घटना के बाद युवक के अंदर मेडिकल छात्रों के खिलाफ कड़वाहट से भर गई।

तमिलसेल्वन इंटरनेट पर मेडिकल कॉलेजों के नाम और पते खोजता और फिर उन्हें निशाना बनाता। वह मेडिकल छात्रों के मोबाइल की जगह लैपटॉप चोरी करता क्योंकि उन्हें बेचना आसान होता और पकड़े जाने का ज्यादा रिस्क नहीं था। उसने दक्षिण भारत के कॉलेजों को निशाना बनाना शुरू किया और उसके बाद फरीदाबाद के पास भंकरी गांव में शिफ्ट हो गया। यहां से उसने उत्तर भारत के मेडिकल कॉलेज के छात्रावासों में जाना शुरू कर दिया। जामनगर गुजरात में उसकी यह पहली चोरी थी। वह दिसंबर में शहर पहुंचा और अनुपम सिनेमा के पास एक होटल में रुका और उसने गर्ल्स हॉस्टल की रेकी की। किसी तरह, वह एक कमरे की चाबी खोजने में कामयाब रहा और 26 दिसंबर को लैपटॉप चुरा लिया।



ad

loading...