news-details

लॉक डाउन में मरीजों के सहयोगियों को भी मिलेगा सरकारी भोजन

‘‘तालाबंदी के दौरान चिकित्सारत भर्ती मरीजों के साथ उनके सहयोगियों को भी चिकित्सालय के रसोई घर से ही की जाएगी पौष्टिक भोजन की आपूर्ति, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की सचिव ने जारी किए निर्देश‘‘

महासमुंद 25 मार्च 2020 / जहां एक ओर कोरोना वायरस प्रकोप के दौरान आमजन को संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए जनहित में तालाबंदी जैसे आदेश जारी किए जा रहे हैं,वहीं, दूसरी ओर नागरिकों को इससे असुविधा या परेशानी नही होने पाए इसका खयाल भी बखूबी रखा जा रहा है। इसी कड़ी में 25 मार्च 2020 को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से सचिव सुश्री निहारिका बारिक सिंह द्वारा प्रदेश स्तर पर जिला स्वास्थ्य सेवाओं सहित समस्त शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय संबद्ध चिकित्सालयों के अधिकारी प्रमुखों को मरीजों एवं उनके सहयोगियों दोनों के लिए चिकित्सालयों में ही आहार व्यवस्था का प्रबंधन कर उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देशित किया गया है।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसपी वारे के निर्देशन एवं सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डॉ आरके परदल के मार्गदर्शन में जिला चिकित्सालय सहित समस्त सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में जहां भी उपचार के लिए मरीज भर्ती हैं। उन्हें संतुलित एवं पौष्टिक भोजन चिकित्सालय प्रबंधन के द्वारा ही प्रदाय किया जाएगा। निर्देशों का स्पष्टीकरण करते हुए उन्होंने बताया कि वर्तमान में नोवेल कोरोना वायरस को लेकर स्थिति संवेदनशील है। ऐसे में संक्रमण से सुरक्षा के लिए उठाए गए तालाबंदी के दौर में चिकित्सालय में भर्ती मरीजों के परिजनों को उनके दैनिक आहार में भोजन इत्यादि की आपूर्ति के लिए चिकित्सालय परिसर से बाहर निकलना पड़ रहा था। जिसके चलते तालाबंदी नियमों का उल्लंघन एवं संक्रमण होने की समस्या उत्पन्न होने की संभावना बन रही है। समस्या को गंभीरता से लेते हुए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन किया जा रहा है। जिसमें मरीज एवं उनके परिजों को उनके डाइट चार्ट के अनुसार शुद्ध पौष्टिक भोजन उपलब्ध होगा। इससे उनके आहार व्यवस्था के लिए चिकित्सालय परिसर से बाहर जाने की बाध्यता भी नहीं रहेगी।