news-details

कृषकों को गौठानों में पैरा दान करने की कि जा रही है अपील

राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी अंतर्गत जिले के ग्रामों में बने गौठानों में पशुओं को पर्याप्त चारे की व्यवस्था के लिए पूर्व वर्ष की तरह इस वर्ष भी किसान स्वयं आगे आकर फसल कटने के बाद पैरा दान करें। इसके लिए विभागीय अमलों के द्वारा किसानों से अपील की जा रहीं हैं। किसानों के द्वारा दान की गई पैरा को गौठान में संग्रहित कर व्यस्थित तरीके से रखा जा रहा है, ताकि लम्बे समय तक पशुओं को चारा मिल सके।

कृषि विभाग के उप संचालक ने बताया कि गांवों में कृषि विभाग के द्वारा ग्रामीणों की बैठक लेकर पैरादान के लिए अपील की जा रही हैं। इससे प्रेरित होकर किसान गौठानों मे पैरा उपलब्ध करा रहे है। कृषि विभाग के उप संचालक ने सभी विकासखण्ड स्तरीय अधिकारी-कर्मचारियों एवं ग्राम स्तर के अधिकारी को निर्देशित किया है तथा उन्होंने कहा है कि पशुपालन विभाग के अधिकारी एवं ग्राम पंचायत सचिव, ग्राम पंचायत सरपंच/उप सरपंच/पंच तथा रोजगार सहायक से संपर्क कर अपने अधीनस्थ क्षेत्र के पैरा को गौठानों में जन सहभागिता को बढ़ावा देते हुए पैरादान के माध्यम से गौठानों में चारे की व्यवस्था सुनिश्चित कराए। कृषि विभाग के उप संचालक ने बताया कि जिले मे कुल 225 चयनित गौठान क्षेत्र के आसपास के गांव के किसानों को खुद से आगे बढ़कर पैरादान करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, ताकि गौठानों में पशुओं के लिए वर्ष भर चारा उपलब्ध रह सकें। जिले के घोड़ारी, शेर, बम्हनी, कोना, पतेरापाली एवं कौंदकेरा से अब तक कुल 6 गोठान ग्रामों में बेलर मशीन से कुल 17.00 टन पैरा कृषकों द्वारा गौठानों मे दान किया जा चुका है, जिसे गौठानों में सुरक्षित रखा गया है।




ad

ad

ad

loading...