news-details

सभी पालकों से सहमति पत्र भराना अनिवार्य...02 अगस्त से खुलेंगे कक्षा 1 से 12 तक के सभी स्कूल..सहमति पत्र फार्मेट जारी

छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग मंत्रालय द्वारा प्रदेश में कक्षा 10 वीं एवं 12 वीं कक्षा के साथ - साथ प्राथमिक स्कूलों को खोलने हेतु भी दिशा निर्देश जारी किये है। स्कूल खुलने के साथ ही बच्चों के पालकों से सहमति पत्र भरवाना अनिवार्य होगा जिसके लिए फार्मेट जारी किये गए है। प्रदेश में पिछले डेढ़ साल बाद बच्चों के अध्यापन हेतु स्कूलों के पट खोले जायेंगे। ज्ञात हो की कोरोना संक्रमण के चलते पिछले डेढ़ - दो साल से स्कूल , कालेज आंगनबाड़ी को बंद कर दिया गया था। कोरोना संक्रमण के कमजोर पड़ते ही स्कूल, आंगनबाड़ी एवं कालेजों को क्रमशः धीरे - धीरे खोला जा रहा है। सहमति पत्र फार्मेट अंत में देखें और डाउनलोड करें।

मंत्रालय द्वारा जारी आदेश देखें -

छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग मंत्रालय द्वारा जारी आदेशानुसार प्रदेश में स्कूल शिक्षा विभाग की ऑफलाइन कक्षाएं प्रारम्भ करने के सम्बन्ध में राज्य शासन द्वारा निर्णय लिया गया है। प्रदेश में ऑफलाइन कक्षाएं प्रारम्भ करने के सम्बन्ध में बिंदुवार निम्न दिशा निर्देश जारी किये गए है -

1. स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत सभी निजी एवं शासकीय विद्यालयों में कक्षा 10 वीं एवं 12 वीं की कक्षायें सोमवार 02 अगस्त से प्रारम्भ किए जाएँ।

2. स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत सभी निजी एवं शासकीय विद्यालयों में कक्षा 1 से 5 वीं एवं कक्षा 8 वीं की कक्षाएं प्रारम्भ करने के सम्बन्ध में ग्रामीण क्षेत्रों के लिए सम्बंधित ग्राम पंचायत तथा स्कूल की पालक समिति की अनुशंसा प्राप्त की जाए। शहरी क्षेत्रों के लिए सम्बंधित वार्ड पार्षद तथा पालक समिति की अनुशंसा पश्चात 02 अगस्त से स्कूल प्रारम्भ की जाए।

3. यह कक्षाएं उन्ही जिलायों में प्रारम्भ की जाए जहा की कोरोना पॉजिटिविटी दर पिछले एक सप्ताह में 1 फीसदी से कम हो।

4. प्रतिदिन केवल आधी स्कटूडेन्ट को ही बुलाया जाए। अर्थात रोटेशन में विद्यार्थी स्कूल बुलाए जायेंगे।

5. किसी भी विद्यार्थी को सर्दी, खांसी, बुखार हो तो उन्हें कक्षा में नहीं बैठाया जाए।

आंगनबाड़ी भी दो शिप्ट में लगेगी - पिछले दिनों जारी आदेशानुसार प्रदेश के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों को 26 जुलाई से 02 शिप्ट में खोला जायेगा। आंगनबाड़ी केंद्र में एक समय में 15 से अधिक संख्या में बच्चे या माता , पिता उपस्थित नहीं हो पाएंगे। पिछले बार मार्च में आंगनबाड़ी केंद्र को खोला गया था लेकिन संक्रमण के बढ़ते ही इसे फिर बंद कर दिया गया। स्कूल , आंगनबाड़ी सभी जगह कोरोना गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य होगा।

मध्यान्ह भोजन की राशि सीधे खाते में - केंद्र सरकार की सबसे बड़ी और प्रमुख योजना मध्यान्ह भोजन योजना की राशि अब सीधे बच्चों या पालकों के खाते में जाएगी। इसके सन्दर्भ में छत्तीसगढ़ शासन लोक संचालनालय विभाग से आदेश भी जारी हो चुके है। बच्चे के या पालकों के खाता नंबर, आधार नंबर आदि को मध्यान्ह भोजन पोर्टल में जल्द से जल्द अपलोड करने के निर्देश दिए गए है।


6. ऑनलाइन कक्षाएं यथावत संचालित की जाए।

7. किसी भी विद्यार्थी के लिए उपस्थिति अनिवार्य नहीं होगी।

8. केंद्र सरकार द्वारा जारी कोरोना गाइडलाइन का पालन किया जाए।

9. सभी स्कूलों की कमरों एवं भवनों की अच्छे से साफ़ सफाई की जाए।

मंत्रालय द्वारा जारी आदेश डाउनलोड करें -



विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 9131581090




क्लासिफाइड