news-details

कोरोना वायरस से बचने के लिए प्रशासन ने बंद करवाई दुकान.

सरायपाली. कोरोना वायरस से बचने के लिए व्यापारियों ने अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद रखकर जनता कर्फ्यू को समर्थन दिया. आज दैनिक सब्जी बाजार किराना दुकान, मेडिकल स्टोर्स, फल दुकानों, पेट्रोल पम्प, एवं कुछ होटलों को छोड़कर शेष सभी दुकानें बंद रही. सुबह 8 बजे तक बहुत ही कम लोगों ने दुकान खोला था, लेकिन देखा-देखी में कुछ अन्य व्यापारियों ने भी दुकान खोल दिया था, जिसे सरायपाली एसडीएम कुणाल दुदावत, एसडीओपी विकास पाटले, तहसीलदार युवराज कुर्रे, नपा अध्यक्ष अमृत पटेल, मुख्य नगरपालिका अधिकारी खीरसागर नायक व पुलिस टीम के द्वारा घूम-घूम कर बंद करवाया गया. आज से आगामी 25 मार्च तक शराब दुकानें भी बंद रहेंगी. कल जनता कर्फ्यू के दिन भी शराब दुकानें खुली थीं. कलेक्टर द्वारा शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी धारा 144 लागू कर एक दिवसीय जनता कर्फ्यू को 31 मार्च तक बढ़ा दिया गया है. वहीं विधायक के द्वारा भी गाँव-गाँव में घूमकर कोरोना वायरस से बचने के लिए लोगों को उपाय बताये जा रहे है.

विगत 21 मार्च से शहर में कोरोना वायरस के कारण दुकानें बंद हैं. तीन दिनों से व्यापार ठप्प है. दैनिक उपयोग के आवश्यक चीजों की दुकानें ही खुल रहे हैं. कल 22 मार्च को तो दवाई दुकानों एवं अस्पताल के अलावा सभी दुकानें बंद थीं. यहाँ तक कि दैनिक सब्जी बाजार में भी सन्नाटा पसरा हुआ था. इसी तरह की स्थिति ग्रामीण अंचलों में भी देखने को मिली. ग्रामीण क्षेत्रों में साप्ताहिक बाजार भी नहीं लगी. शहर में भी कल मंगलवार साप्ताहिक बाजार को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है. घरों में ही लोगों के दुबके रहने के कारण सोशल मीडिया का ही अधिक उपयोग हो रहा है, जिसके कारण नेटवर्क भी धीमा हो गया है. शहर के कुछ वार्डों में टी वी केबल में भी खराबी आने से लोगों का घर में दिन बिताना मुश्किल हो रहा है. सेनिटाईजर एवं मास्क की बिक्री में काफी बढ़ोत्तरी हो गई है, जिसके कारण कई मेडिकल स्टोर्स में इसे अधिक दामों पर बेचा जा रहा है. शासन के द्वारा 200 मिली के सेनिटाईजर के लिए 100 रू एवं मास्क के लिए 8 एवं10 रू निर्धारित किया गया है, लेकि न लगभग सभी मेडकल दुकानों में उक्त सामग्रियाँ दुगुने दामों पर मिल रही हैं. कुछ मेडिकल संचालकों का कहना है कि ऊँचे दामों पर वे स्वयं खरीद कर लाये हैं तो उसे कम कीमत पर कैसे बेचें. वायरस की भयानकता को देखते हुए शासन के द्वारा टैक्सी, आॅटो, ई-रिक्शा को भी प्रतिबंधित किया गया है. बस सेवायें बंद होने से अंचल के कुछ यात्री भी अन्य स्थानों पर फँसे हुए हैं.

स्वास्थ्य विभाग द्वारा अन्य जिलों से आने वाले लोगों की भी स्केनिंग की जा रही है. अभी तक ब्लॉक में वायरस की जाँच के लिए केवल 4 संदिग्ध लोगों का ही ब्लड सेंपल लिया गया है. हालांकि अभी तक उनका रिपोर्ट नहीं आया है. चारों को होम आईसोलेशन में रखा गया है. सुबह एवं शाम को चिकित्सकों की टीम उनके घर पर पहुँचकर स्वास्थ्य जाँच कर रही है.

ad

loading...