news-details

कुछ ईटे ,कुछ बोरी सीमेंट तो किसी को रेत देकर ,दबा लिया 12 हजार रुपये... राशि दिलाने कन्नी काट रहा सचिव सरपंच

महासमुंद जिले अंतर्गत बसना जनपद के रुबर्न क्लस्टर चयनित ग्राम पंचायत लोहड़ीपुर के ग्रामीणों द्वारा विगत दो वर्षों पहले पंचायत के आदेश पर स्वयं की राशी लगाकर घरो में शौचालय निर्माण किया गया था।जिससे ग्राम पंचायत ओडीएफ बन सके।ग्रामीणों के सहयोग से तो ग्राम पंचायत ओडीएफ बन गया, लेकिन ग्रामीणों को मिलने वाला प्रोत्साहन राशि12 हजार रुपये अब तक नहीं मिल पाया है।

ग्रामीणों ने बताया कि कुछ लोगो इट, रेत या फिर सीमेंट जरूर दिया गया था।लेकिन लेबर मिस्त्री की मजदूरी भुगतान आज तक नहीं हो पाया है।

शौचालय बनाते तक ग्राम पंचायत के द्वारा आश्वासन दिया जाता रहा कि ओडीएफ घोषित होने के बाद शासन से मिलने वाली प्रोत्साहन राशि12 हजार रुपये दे दिया जायेगा।लेकिन साल भर बीतने के बाद भी कई ग्रामीणों को शासन से मिलने वाली राशि का एक रुपये भी नही मिल पाया है।

ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम पंचायत को ओडीएफ बनाने के लिए स्वच्छ भारत मिशन और मनरेगा योजना के तहत शौचालय बनाने चयनित हितग्राहियों ने शासन से प्रोत्साहन राशि नहीं मिलने पर कर्ज लेकर स्वयं की राशि से शौचालय बनाया है.

शौचालय बनाकर गांव को ओडीएफ कराया. लेकिन अब तक प्रोत्साहन राशि नहीं मिली है. ओडीएफ घोषणा के बाद क्षेत्र के जनप्रतिनिधि व अधिकारियों ने ओडीएफ के नाम पर वाहवाही लूट ली. लेकिन हितग्राहियों को शासन से मिलने वाली प्रोत्साहन राशि दिलाने कन्नी काट रहे हैं.

बहरहाल देखना यह है कि ग्रामीणों की राशि कब तक भुगतान होती है या पिछले कार्यकाल की भांति इस कार्यकाल में निर्वाचित प्रतिनिधियों का चक्कर लगाते रहेंगे.

ad

loading...