news-details

जल जीवन मिशन में नक्सल प्रभावित और पेयजल समस्या वाले गांवों को किया जायेगा शामिल : सुदूर ग्रामों, हॉस्टल एवं आंगनबाड़ी में जल आपूर्ति को मिलेगी प्राथमिकता

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्रकुमार के मार्गदर्शन में राज्य के ग्रामीण अंचलों में बेहतर पेयजल व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। इसी कड़ी में आज कोण्डागांव जिले के कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा ने घर-घर तक स्वच्छ पेयजल पहुंचाने हेतु प्रारंभ की गई शासन की महत्वाकांक्षी परियोजना जल जीवन मिशन के प्रथम चरण में किये जा रहे कार्यों की समीक्षा बैठक ली।

इस बैठक में कलेक्टर ने योजनांतर्गत नल कनेक्शन हेतु चिन्हित ग्रामों पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने योजना के लिए ग्रामों के चयन के दौरान सुदूर अंचल में बसे ग्रामों, नक्सल प्रभावित ग्राम एवं ऐसे ग्राम जहां स्वच्छ पेयजल की समस्या है

उन्हें प्राथमिकता देते हुए सबसे पहले चिन्हांकित ग्रामों को योजना के अन्तर्गत लाने के निर्देश दिए साथ ही ऐसे हॉस्टल, स्कूल, आंगनबाड़ी जहां पेयजल की समस्या है, ऐसे स्थानों में भी जल प्रदाय करने को कहा। इसके अलावा उन्होंने ऐसे नलकूप, सोलर पम्प, जलप्रदाय योजनाएं जो वर्तमान में बंद पड़ी हैं उनके संबंध में अद्यतन जानकारी उपलब्ध कराने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को निर्देशित किया एवं बिगड़े पम्पों को जल्द से जल्द सुधारने के निर्देश दिए।

इस बैठक में कार्यपालन अभियंता ने बताया कि जल जीवन मिशन अंतर्गत 98 ग्रामों में प्रोजेक्ट बनाये जाने हैं, जिनमें 57 ग्रामों के लिए 67 योजनाएं तैयार कर प्रशासनिक स्वीकृति हेतु भेज दी गई है। जिसमें से 38 ग्रामों की कुल 46 योजानाएं स्वीकृत हो गये हैं। इन सभी प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त कार्यों में कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। अन्य गांवों में सर्वे का कार्य प्रगति पर है, जिसे जल्द ही पूरा कर लिया जायेगा। इस बैठक में कोण्डागांव जिले के जिला पंचायत सीईओ डीएन कश्यप सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


ad

ad

loading...